B.Ed के बाद क्या करें? (B.Ed Ke Baad Kya Kare)

आज हम जानेंगे कि b.ed के बाद क्या करें? (B.Ed Ke Baad Kya Kare) या b.ed करने के बाद हमारे पास क्या-क्या कैरियर ऑप्शन उपलब्ध होता है करने के लिए।

दोस्तों आज के समय में बहुत से छात्र टीचिंग प्रोफेशन में अपना करियर बनाना चाहते हैं। Teaching profession को आज एक बहुत ही सम्मानजनक क्षेत्र के रूप में देखा जाता है।  एक अच्छा शिक्षक बनने पर आपको पैसों के साथ-साथ मान सम्मान की भी प्राप्ति होती है। दोस्तों टीचिंग प्रोफेशन में रुचि रखने वाले हर छात्र को यह ज्ञात होगा ही की एक शिक्षक बनने के लिए आज के समय में b.Ed एक अनिवार्य कोर्स होता है।

B.Ed के बाद क्या करें?

आप किसी भी प्रकार के टीचर बनना चाहते हो चाहे आप सरकारी स्कूल में अध्यापन करना चाहते हो या किसी प्राइवेट स्कूल में आपको b.Ed की डिग्री प्राप्त करनी ही होती है। यानी शिक्षक बनने की मानसिकता रखने वाला हर कोई b.Ed करता है। B.Ed कोर्स में आपको पढ़ाना पढ़ाया जाता है अर्थात आपको दूसरों को पढ़ाने का प्रशिक्षण दिया जाता है जो कि एक शिक्षक के लिए सबसे अनिवार्य योग्यता होती है।

B.Ed के बाद क्या करें? (What To Do After B.Ed)

दोस्तों अगर आप ने भी अपनी b.Ed की पढ़ाई पूरी कर ली है और आप इस बात को लेकर थोड़ी कन्फ्यूजन में है कि आगे क्या किया जाए (B.Ed Ke Baad Kya Kare) तो आज इस लेख में हम इस बात पर चर्चा करेंगे की आप अपनी बीएड की पढ़ाई पूरी हो जाने के बाद आगे और क्या कर सकते है-

दोस्तों b.Ed पूरी कर लेने के बाद आप निम्नलिखित विकल्पों से चुनाव कर सकते हैं-

  • निजी (private) स्कूल में पढ़ा सकते हैं।
  • टीजीटी की तैयारी कर सकते है।
  • LT grade teacher की तैयारी कर सकते हैं।
  • प्राथमिक विद्यालय में पढ़ा सकते हैं।

B.Ed के बाद निजी स्कूल में पढ़ा सकते हैं-

पहले किसी निजी यानी प्राइवेट स्कूल में शिक्षक की नियुक्ति उनकी योग्यता और अनुभव के आधार पर कर ली जाती थी। पहले आप ग्रेजुएशन पूरी कर लेने के बाद ही कैसे प्राइवेट स्कूल में किसी प्राइवेट स्कूल में शिक्षक के रूप में कार्य कर सकते थे परंतु अब किसी निजी स्कूल में भी एक शिक्षक के रूप में काम करने के लिए आपके पास न्यूनतम योग्यता b.Ed कर दी गई है।

भारत सरकार द्वारा वर्ष 2019 से किसी भी प्रकार के स्कूलों में शिक्षक पद के लिए b.Ed को अनिवार्य कर दिया गया है यानी किसी प्राइवेट स्कूल में भी शिक्षक के पद पर नियुक्ति के लिए b.Ed कोर्स करना ही पड़ेगा। आज के समय में प्राइवेट स्कूलों में भी  अच्छे शिक्षकों की भारी मांग रहती है। एवं प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों की सैलरी भी काफी अच्छी होती है।

बहुत से छात्र बीएड कंप्लीट करके निजी स्कूलों में पढ़ाना चाहते हैं क्योंकि कई बार इससे उन्हें सरकारी शिक्षकों के पदों पर नियुक्त होने के लिए होने वाली बड़ी परीक्षाओं से नहीं गुजरना होता है। निजी स्कूल मे शिक्षक के तौर पर नियुक्त होने से उन्हें सैलरी भी काफी अच्छी मिलती है। थोड़ी कम मेहनत में अच्छी सैलरी पर किसी निजी स्कूल में अध्यापन करना  बहुत ही अच्छा विकल्प होता है।

B.Ed के बाद टीजीटी की तैयारी कर सकते हैं-

अगर b.Ed पूरी कर लेने के बाद आप किसी सरकारी स्कूल में शिक्षक के तौर पर नियुक्त होना चाहते हैं तो आप टीजीटी व पीजीटी शिक्षक के रूप में नियुक्त हो सकते हैं। टीजीटी का मतलब होता है ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर। एक टीजीटी शिक्षक छठी क्लास से दसवीं क्लास तक के छात्र छात्राओं को पढ़ाते हैं। अगर आपकी भी रुचि है छठी से दसवीं तक के छात्र छात्राओं को पढ़ाना है तो आप  टीजीटी की होने वाली परीक्षाओं को पास करके किसी अच्छे सरकारी स्कूल में टीजीटी शिक्षक के रूप में कार्य कर सकते हैं।

इसके अलावा आप पीजीटी की परीक्षा पास करके पीजीटी शिक्षक के रूप में भी कार्यरत हो सकते हैं। पीजीटी का पूरा नाम पोस्ट ग्रेजुएट टीचर होता है अगर आप ग्रेजुएशन के बजाय पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद b.Ed का कोर्स करते हैं तो आप पीजीटी के परीक्षा देकर एक पीजीटी शिक्षक के रूप में कार्यरत हो सकते हैं एक पीजीटी शिक्षक दसवीं से ऊपर यानी 11वीं और 12वीं वर्ग के छात्र-छात्राओं को पढ़ाता है।

टीजीटी एवं पीजीटी के परीक्षाओं का आयोजन अलग अलग राज्य समय समय पर  करवाती है जिसे उत्तीर्ण करने के बाद आप एक टीजीटी और पीजीटी शिक्षक बन सकते हैं। अगर बात करें सरकारी स्कूलों में सैलरी की तो यह टीजीटी शिक्षकों के लिए ढाई से साढ़े तीन लाख वार्षिक एवं 4 से 5 लाख वार्षिक पीजीटी के लिए होती है।

B.Ed के बाद LT grade टीचर तैयारी कर सकते हैं-

अपनी b.Ed पूरी कर लेने के बाद आप  राजकिय विद्यालयों में एलटी टीचर के रूप में कार्यरत हो सकते हैं। इसमें चयनित होने के लिए आपको प्रतियोगी परीक्षाओं को पास करना होता है। दोस्तों राजकीय विद्यालय पूरी तरह से सरकार के नियंत्रण में होते हैं एवं इन विद्यालयों में शिक्षकों की नियुक्ति का सारा कार्य सरकार करती है। LT मे नियुक्त होने वाले शिक्षकों की सैलरी टीजीटी शिक्षकों की सैलरी के समान ही होते हैं।

टीजीटी मैं आपको AIDED यानी अर्ध सरकारी संस्थाओं में नियुक्ति मिलेगी एवं LT मे आपको सरकारी संस्थाओं में नियुक्ति मिलेगी। LT मे ज्वाइन करने पर आप प्राथमिक विद्यालय टीचर, माध्यमिक विद्यालय टीचर, और हाई स्कूल टीचर के रूप में नियुक्त हो सकते हैं। इन शिक्षकों का कार्य टीजीटी एवं पीजीटी शिक्षकों के कार्य की तुलना में थोड़ा आसान होता है चूकी इसमें आप की नियुक्ति माध्यमिक स्कूलों और हाई स्कूलों में होती है।

B.Ed के बाद प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ा सकते हैं

सहायक अध्यापक की परीक्षा इनका आयोजन प्रदेश स्तर पर किया जाता है उस में भाग लेकर एवं उसे पास करके आप परिषदीय विद्यालयों में सहायक अध्यापक के रूप में भी नियुक्त हो सकते हैं। प्राथमिक विद्यालयों में अध्यापन के लिए आपके पास बेसिक से जानकारी होनी जरूरी होती है क्योंकि इसमें आपको प्राथमिक विद्यालयों के छात्र छात्राओं को पढ़ाना होता है। B.ed पूरी कर लेने के बाद इन विद्यालयों मे शिक्षकों की नियुक्ति के लिए भी हर राज्य में परीक्षाएं आयोजित करवाई जाती है एवं उसके परिणाम के आधार पर शिक्षकों की नियुक्ति की जाते हैं।

डस्टबिन विकल्पों के अलावा भी आपकी अभी यानी केंद्रीय विद्यालय जेएनवी जवाहर नवोदय विद्यालय एवं अन्य पब्लिक स्कूल जैसी संस्थाओं में भी शिक्षक के रूप में कार्यरत हो सकते हैं।

Conclusion

दोस्तों b.Ed की डिग्री प्राप्त हो जाने के तुरंत बाद ही आप शिक्षक नहीं कहलाते। शिक्षक बनने के लिए आपको परीक्षाएं देनी होती है जिनमें उत्तीर्ण होने पर आप शिक्षक के रूप में नियुक्त किए जाते हैं ऐसी परीक्षाओं में टीजीटी यानी ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर पीजीटी आदि जैसी परीक्षाओं का नाम आता है।

आज हमने जाना कि b.ed करने के बाद हमारे पास क्या-क्या कैरियर ऑप्शन उपलब्ध होते हैं तथा वे कौन-कौन से हैं?

b.ed से जुड़ी किसी प्रकार के कोई भी सवाल के लिए आप हमें कमेंट में पूछ सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Website बनाकर पैसे कैसे कमाए?  (महीने 27,000 कमाए) ✅✅✅