बायोलॉजी (Biology) क्या है? | What Is Biology In Hindi

Advertisements

आज इस आर्टिकल में हम Biology क्या है?, बायोलॉजी में क्या पढ़ते हैं, biology का इतिहास, biology के branch इसके बारे में जानेंगे।

दोस्तों विज्ञान हम सभी के लिए हमेशा से ही सबसे रोचक विषय रहा है। हमारी पूरी दुनिया कैसे काम करती है? यह कौन से घटको से प्रभावित होती है? यह कौन से घटकों को प्रभावित करती है आदि जैसे सभी सवालों का जवाब हमें विज्ञान से ही मिलता है। विभिन्न प्रकार के भौतिक पदार्थ किस प्रकार है कार्य करते हैं, रासायनिक पदार्थों का हमारे जीवन में उपयोग, एवं सबसे महत्वपूर्ण जैविक पदार्थ यानी जीवित प्राणी जिसमें अनेकों प्रकार के जानवर और वनस्पति आते हैं इन सभी का अध्ययन हम विज्ञान में ही करते हैं।

What Is Biology In Hindi

दोस्तों विज्ञान का अध्ययन  हम मुख्यतः तीन भागों में करते हैं जिसमें

  • Physics यानी भौतिक शास्त्र
  • Chemistry यानी रसायन शास्त्र
  • Biology यानि जीव विज्ञान

दोस्तों आज इस लेख में हम मुख्यतः विज्ञान के एक भाग जीव विज्ञान  जिसे अंग्रेजी में biology भी कहा जाता है, उसके बारे में चर्चा करेंगे-

बायोलॉजी क्या है? (what is biology)

Advertisements

बायोलॉजी का अर्थ होता है जीव विज्ञान यह विज्ञान की वह शाखा है जिसके अंतर्गत जीव धारियों  यानी जीवित प्राणियों जिसमें छोटे बैक्टीरिया से लेकर बड़े ब्लू व्हेल तक सभी प्राणी एवं हर प्रकार की वनस्पतियां शामिल है।

उनके बारे में अध्ययन किया जाता है इस विषय के अंदर जीवो की संरचना यानी उनकी बनावट किस प्रकार हुई, उनके कार्यों यानी वे किस प्रकार विभिन्न क्रियाएं करते हैं, उनका विकास यानी समय के साथ साथ वह किस प्रकार इवॉल्व हुए हैं, उनका उद्धव, पहचान एवं उनका विभिन्न भागों में वर्गीकरण इत्यादि के बारे में पढ़ा जाता है। 

बायोलॉजी किन किन शब्दों से मिलकर बना है?

जीव विज्ञान यानी बायोलॉजी दो शब्दों से मिलकर बना है बॉयोस (bio) जिसका अर्थ होता है जीवन एवं लोगस (logous) जिसका अर्थ होता है अध्ययन। इससे बायोलॉजी के नाम में ही विदित है कि इसमें जीवन का अध्ययन किया जाता है, मतलब जो भी प्राणी जीवित है हर सजीव प्राणी का अध्ययन ही जीव विज्ञान कहलाता है।

बायोलॉजी की उत्पत्ति कब हुई?

जीवन का अध्ययन यानी जीव विज्ञान की अगर बात करें जीवन की उत्पत्ति की तो एकदम शुरुआत से, जब ब्रह्मांड में एक बड़ा विस्फोट हुआ जिसे हम Big Bang theory के नाम से जानते हैं, तब बहुत सारे सौरमंडल की रचना हुई जिसमें हमारा सौरमंडल भी शामिल था उसके बाद हमारे सौरमंडल के एक ग्रह पर जिस पर हम रहते हैं और जिसे पृथ्वी कहते हैं पहले उस पर निर्जीव पदार्थ थे।

उन्हीं निर्जीव पदार्थ हो से मिलकर जिसमें कार्बनिक पदार्थ जिनमें amino अम्ल, fatty acid, विभिन्न प्रकार के प्रोटींस मिथेन और शुगर शामिल थे इनसे ही ऐसा वातावरण बना जिसमें जैविक पदार्थ की उत्पत्ति हुई, जिससे जीवन का निर्माण संभव हो सका। अर्थात निर्जीव पदार्थों से ही सजीव पदार्थों की उत्पत्ति हुई है।

बायोलॉजी का इतिहास

दोस्तो अगर बात करें बायोलॉजी के इतिहास की तो सबसे पहले सन 1802 में लैमार्क और ट्रेविरेनस ने बायोलॉजी शब्द का इस्तेमाल जंतु विज्ञान और वनस्पति विज्ञान के अध्ययन के लिए किया था। उसके बाद Thrimoprestus और अरस्तू ने वनस्पति विज्ञान जिसे अंग्रेजी में botony कहते हैं एवं जंतु विज्ञान इसे जूलॉजी (zoology) कहते हैं।

इन  पर आगे अध्ययन किया अरस्तु ने जंतु विज्ञान पर एक किताब लिखी जिस का नाम historica एनिमलिया था एवं Thrimoprestus ने botony पर एक किताब लिखी थी जिसका नाम historica planterium था। अरस्तु को फादर ऑफ बायोलॉजी यानी जीव विज्ञान का जनक भी कहा जाता है साथ ही वे जूलॉजी यानी जंतु विज्ञान के भी जनक हैं।

उनके बाद लीनियस जिन्हें फादर ऑफ मॉडर्न बायोलॉजी यानी आधुनिक जीव विज्ञान का जनक कहा जाता है। इनके बाद आते हैं व्हिटिकर जिन्होंने जीव विज्ञान में five kingdom classification theory दी। इन्होंने संपूर्ण जीवित प्राणियों को 5 जगत में वर्गीकृत किया था जिनमें मोनेरा, प्रोटिस्टा, पादप, कवक एवं जंतु शामिल थे। इन्हें ही मोनेरा, प्रोटिस्टा, प्लांटी,  फंगी और एनिमलिया कहा जाता है। सारे जीवित प्राणियों को इन्हीं 5 जगतो में वर्गीकृत किया  जा सकता है।

बायोलॉजी की शाखा (Biology branch)

Advertisements

दोस्तों biology विज्ञान की एक शाखा है। बायोलॉजी की दो शाखाएं हैं जिनमें

  • जंतु विज्ञान यानी zoology
  • वनस्पति विज्ञान यानी botony

Zoology

Zoology यानी जंतु विज्ञान के अंदर एनाटॉमी जिसमें शरीर एवं विविध रंगों की विच्छेदन द्वारा प्रदर्शित सकल रचना का अध्ययन, एंथ्रोपोलॉजी जिसमें मानव जाति के सांस्कृतिक विकास का अध्ययन, एंजियोलॉजी जिसमें मानव परिसंचरण तंत्र का अध्ययन, एयरोबायोलॉजी जिसमें उड़ने वाले जंतुओं का अध्ययन, बायोमैट्रिक्स

जिसमें जीव विज्ञान के प्रयोगों के विभिन्न परिणामों का अध्ययन, साइकिल साइकोबायोलॉजी जिसमें जंतुओं की मनोवृति का अध्ययन, जुजियोग्रफी इसमें पृथ्वी पर जंतुओं के वितरण का अध्ययन पैलियोनटोलॉजी इसमें जो आसनों का अध्ययन जीवाश्म का अध्ययन ,फाइलोजेनी जिसमें जाति के  उद्विकास का इतिहास, आंटोजेमी जिसमें जीवन वृत्ति का अध्ययन, ट्राफोलॉजी यानी पोषण विज्ञान,  tactology

जिसमें शरीर के रचनात्मक  संघटन का अध्ययन, taxonomy जिसमें जीव जातियों के नामकरण एवं वर्गीकरण का अध्ययन, एंटोंमोलॉजी जिसमें कीट पतंगों का अध्ययन जेनेटिक्स जिसमें जीवो के अनुवांशिक लक्षण एवं उनकी वंशागति का अध्ययन, इम्यूनोलॉजी जिस में संक्रमण के विरुद्ध जंतु शरीर की प्रतिरोधक क्षमता का अध्ययन किया जाता है आदि जैसे अन्य और कई शाखाएं होती हैं जिनमें अलग-अलग क्षेत्रों में विशेष अध्ययन किया जाता है।

Botany

इसके बाद बायोलॉजी की दूसरी शाखा होती है बॉटनी यानी वनस्पति विज्ञान। बांटने के अंतर्गत एग्रोसटलॉजी जिसमें घासो का अध्ययन एवं उनका पालन, बायोमैट्रिक्स जिसमें जीव वैज्ञानिकों के प्रेक्षणों का गतिनिय विवेचन, हिस्टोलॉजी जिसमें  उत्तक  का अध्ययन, एलगोलॉजी जिसमें शेवालो का अध्ययन, अंथोलॉजी जिसमें फूलों का अध्ययन, taxonomy

जिसमें पादप का वर्गीकरण, स्पर्मालॉजी इसमें बीजों का अध्ययन, स्पेसबायोलॉजी जिसमें अंतरिक्ष तथा वायुमंडल में स्थित  पादपों का अध्ययन, फाइटोजियोग्राफी जिसमें पौधों के वितरण एवं उनके कारणों का अध्ययन, टरिडॉलजी जिसमें टेरिडोफाइट्स का अध्ययन बैक्टीरियोलॉजी इसमें जीवाणुओं का अध्ययन, ब्रायलॉजी जिसमें ब्रायोफाइटा का अध्ययन, साइटोलॉजी

इसमें कोशिकाओं के अध्याय अध्ययन, ट्रेडोलॉजि डेंड्रोलॉजी जिसमें परीक्षा एवं झाड़ियों का अध्ययन, डेंड्रोक्रोनोलॉजी जिसमें वृक्षों की आयु का अध्ययन, इकोलॉजी जिसमें पौधों का वातावरण से संबंध का अध्ययन, इकोनामिक बॉटनी इसमें आर्थिक महत्व के पौधों का अध्ययन, एंब्रियो लॉजी जिसमें  युग्मको के निर्माण निषेचन एवं भ्रूण के परिवर्धन का अध्ययन, एथनोबॉटनी

जिसमे आदिवासियों द्वारा पादप के उपयोग का अध्ययन, फ्लोरीकल्चर जिसमें सजावटी फूलों का अध्ययन फॉरेस्ट्री इसमें वनों का अध्ययन जेनेटिक इंजीनियरिंग जिस में कृत्रिम  जीन का निर्माण एवं स्थानांतरण का अध्ययन, एवं अन्य और कई शाखाएं आती है जिसमें अलग-अलग विषयों पर विस्तार से अध्ययन किया जाता है।

Conclusion

इस लेख में हमने बायोलॉजी क्या है बायोलॉजी के इतिहास, बायोलॉजी की उत्पत्ति कैसे हुई बायोलॉजी किन किन शब्दों से मिलकर बना है बायोलॉजी के कितने ब्रांच हैं इन सब के बारे में विस्तार से जाना है और हर एक जानकारी को हमने इस आर्टिकल में बहुत ही सरल भाषा में आपको दी है।

मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़कर आपको बायोलॉजी के बारे में अच्छी जानकारी मिली होगी अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया था हमारे आर्टिकल को शेयर जरूर करें और हमारे आर्टिकल के संबंधित कोई राय देना चाहते तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *