डी फार्मा करने के फायदे? | D Pharma karne ke fayde

आज इस आर्टिकल में हम डी फार्मा करने के फायदे? (D Pharma karne ke fayde), D pharma के फायदे? डी फार्म के क्या क्या फायदे हैं? इसके बारे में विस्तार से पढेंगें।

आज हम जानेंगे कि डी -फार्मा करने के फायदे क्या है? लोग d-pharmacy क्यों करते हैं? आखिरकार क्या ऐसी वजह है जिसके कारण लोग D Pharma करने की सोचते हैं या D Pharma करते हैं।

दोस्तों डी-फार्मा करने के बहुत से फायदे हैं और आज हम एक- एक करके डी- फार्मा के फायदे के बारे में पूरी विस्तार से जानेंगे। अगर आप भी डी फार्म के फायदे के बारे में जानना चाहते हैं और डी फार्म को करना चाहते हैं तो ये आर्टिकल आपके लिए बहुत ही महतवपूर्ण है इस आर्टिकल को पूरा ध्यान से पढ़े।

डी फार्मा करने के फायदे (D Pharma karne ke fayde)

डी फार्म करने के बहुत सारे फायदे हैं। डी फार्म करने के फायदेन (D pharma karne ke fayde) निमंलिखित है। अब हम एक एक कर करके सारे फायदे के बारे में विस्तार से जानेंगे।

  • डी फार्मा करने के बाद सीधे आप नौकरी कर सकते हैं।
  • आप खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।
  • नौकरी में अधिक सैलरी।
  • शिक्षक बन सकते हैं।
  • आप अपने स्थानीय जगह पर नौकरी कर सकते हैं।
  • केमिस्ट या हॉस्पिटल जैसे स्थानों में डी फार्मा वालों को जॉब मिलने की संभावना बहुत हद तक बढ़ जाती है।
  • डी फार्मा के बाद आप अपनी आगे की पढ़ाई जारी रख सकते हैं जिससे कि आप डी फार्मा का पूरा लाभ उठा सकें।

हमने जाना कि डी फार्मा करने के क्या-क्या फायदे हैं? और अब हम इसके फायदे के बारे में पूरे विस्तार से जानेंगे और इसे अच्छी तरह से समझेंगे।

12वीं के बाद ही नौकरी

मैं आपको बता दूं कि डी फार्मा विज्ञान के क्षेत्र में एक ऐसा कोर्स है जिसे आप 12वीं के बाद ही कर सकते हैं। अगर आप 12वीं के बाद डी फार्मा का कोर्स करते हैं तो डी फार्मा करने के बाद ही आपको नौकरी मिलने की संभावना बहुत हद तक बढ़ जाती है। 12th के डी फार्म के फायदे हैं की आपको आसानी से नौकरी मिल सकती है।

वहीं अगर आप दूसरे किसी भी क्षेत्र में पढ़ाई करने करते हैं तो आपको बहुत आगे तक अपनी पढ़ाई जारी रखनी होती है और उसके बाद ही नौकरी मिलने की कुछ संभावना होती है।

Diploma in Pharmacy के बाद ही आप आसानी से रोजगार पा जाते हैं। Pharmacy Sector में आप प्राइवेट और सरकारी दोनों क्षेत्रों में जॉब करने का मौका पा सकते हैं। फार्मासिस्ट के तौर पर आप मेडिकल स्टोर, हॉस्पिटल, क्लीनिक, नर्सिंग होम, ड्रग मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में काम करने के अनेक अवसर मिलते हैं।

खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं

जैसा की आप सभी लोगों को पता है कि डी फार्मा कोर्स के दौरान आपको दवाइयों के बारे में पूरी जानकारी दी जाती है यानी कि आसान भाषा में कहें तो आप दवाइयों के एक expert बन जाते हैं। और इसी का फायदा डी फार्मा के छात्र या छात्राएं द्वारा उठाए जाते हैं।

डी फार्मा करने के फायदे यह है आप दवाइयों के अच्छे जानकर हो जाते हैं जिसे आप खुद का व्यवसाय शुरू करना अगर आप नौकरी नहीं करना चाहते हैं तो आपके पास option है कि आप अपना खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं जैसे कि कोई medical store जहां आप दवाइयां बेचने का काम करेंगे।

महत्वपूर्ण सूचना – दवाई बेचने का काम कोई आम इंसान नहीं कर सकता दवाई बेचने के लिए कम से कम आपके पास फार्मेसी का सर्टिफिकेट होना बेहद महत्वपूर्ण है और डी फार्मा का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप अपना खुद का दुकान खोल कर दवाई बेचने का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।

नौकरी के साथ अच्छी सैलरी भी प्राप्त कर सकते हैं

डी फार्मा करने के बाद आप जिस भी किसी जगह नौकरी करेंगे वहां आपको अच्छी वेतन भी मिलेगी।

यदि आप डी फार्मा की पढ़ाई पूरी होने के तुरंत बाद ही नौकरी करते हैं तो शुरुआत में आपको अधिक सैलरी मिलना मुश्किल होता है लेकिन वही अगर आप डी फार्मा करने के बाद अपनी पढ़ाई को जारी रख कर पीएचडी, एम फार्मा या कुछ अन्य कोर्स को कर लेते हैं तो ऐसे में आप एक अच्छी नौकरी के साथ अच्छी सैलरी भी प्राप्त कर पाएंगे।

शिक्षक बन सकते हैं

यदि आपकी रूचि बच्चों को पढ़ाने में है तो इसके लिए आप डी फार्मा के बाद आप अपनी आगे की पढ़ाई को जारी रख कर भविष्य में रिसर्च के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं या एक शिक्षक के रूप में किसी कॉलेज या इंस्टीट्यूट में बच्चों को पढ़ा सकते हैं।

डी फार्मा करने के बाद आप एम फार्मा कर सकते हैं यह 2 वर्ष का कोर्स होता है।

स्थानीय क्षेत्र में नौकरी मिलने की संभावना

जैसा कि ऊपर मैंने आपको बताया कि डी फार्मा में आपको दवाइयों का पूरा ज्ञान दिया जाता है और ऐसे में आपके क्षेत्र में कई अलग-अलग हॉस्पिटल्स होते हैं जहां आप नौकरी कर सकते हैं और वहां आपको अच्छी सैलरी भी देखने को मिलेगी।

डी फार्मा करने के बाद आप सरकारी निजी किसी भी प्रकार के हॉस्पिटल में आपको जॉब मिल सकती है और आज के समय में डी फार्मा वाले विद्यार्थी की मांग बहुत ज्यादा है और इसमें दूसरे जॉब के मुकाबले कंपटीशन भी कम है।

डी फार्मा करने के बाद के फायदे

अगर आप अपनी डी फार्मा की पढ़ाई पूरी कर चुके हैं और इसके बाद आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आगे की पढ़ाई में आपके पास बहुत सारे ऑप्शन होते हैं जैसे कि पीएचडी एम फार्मा इत्यादि और यदि आप इन सारे कोर्स को करते हैं तो बी फार्मा के बाद आपको और भी कई अलग-अलग फायदे हैं। अलग-अलग sector में नौकरी पाने की संभावना बहुत हद तक बढ़ जाती है।

डी फार्मा से जुड़ी महत्वपूर्ण सूचना

डी फार्मा (D pharma) का पूरा नाम डिप्लोमा इन फार्मेसी (diploma in pharmacy) होता है फार्मेसी के क्षेत्र में यह एक  2 साल का कोर्स होता है।

फार्मास्यूटिकल साइंस के क्षेत्र में छोटी सी लेकर बड़ी लेकर बड़ी सभी फार्मासिस्ट से जुड़ी से जुड़ी जानकारी इस कोर्स में मिलती है यह कोर्स 4 सेमेस्टर में विभाजित होता है।

इस कोर्स में आपको  विभिन्न दवाओं के बारे में अध्ययन करने को मिलता है तथा उन दवाओं के डोज, कब प्रयोग करना है आदि के बारे में पढ़ाया जाता हैं। इसके साथ साथ internship भी कराया जाता हैं। इसे करने के बाद वापस आने से रोजगार पा सकते हैं और मेडिकल के क्षेत्र में आसानी से रोजगार पा जाते हैं।

आप Scientific officer भी बन सकते हैं। इस कोर्स करने के बाद आप सभी मेडिकल  के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। 

conclusion

अगर आप डी फार्मा करने की सोच रहे हैं या कर रहे हैं तो ऐसे में आपको निराश होने की जरूरत बिल्कुल भी नहीं है क्योंकि डी फार्मा एक ऐसा कोर्स है जिसे करने के बाद आप घर में खाली तो बिल्कुल भी नहीं बैठने वाले हैं।

ऊपर मैंने आपको डी फार्मा के फायदे के बारे में बताया लेकिन इसके अलावा भी डी फार्मा के और भी कई अन्य फायदे हैं जिसे आप धीरे-धीरे जानते चले जाएंगे। आज हमने जाना कि डी फार्मा करने के क्या-क्या फायदे हैं? तथा हमें डी फार्मा क्यों करनी चाहिए? मुझे उम्मीद है की आपको यह आर्टिकल पढ़कर अच्छी जानकारी मिली होगी। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे शेयर जरुर करें और इसके संबंधित कोई राय देना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट करके जरुर बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Game खेलकर पैसे कैसे कमाए