एक जिले में कितने एसडीएम होते हैं? Ek jile mein kitne SDM hote hai

यदि बात की जाए SDM की तो DM के बाद जो post सबसे ज्यादा चर्चा में रहती है वह है SDM का post। SDM का post किसी भी जिले में DM की post से नीचे होता है। जिस तरह DM पुरे जिले के प्रशासनिक चीजों का अधिकारी होता है उसी प्रकार SDM भी प्रभागीय स्तर पर DM के जैसे ही प्रशासनिक चीजों का अधिकारी होता हैं।

SDM की post को लेकर बहुत सारे लोगों के मन में कई तरह के सवाल होते हैं। बहुत सारे लोग ऐसे भी है जो इस post को जज की post से संबंधित post समझते हैं, परंतु यह post DM की post से नीचे स्तर का post होता है।

तो आज के इस article में मैं आपको बताऊंगी की एक जिले में कितने SDM होते हैं। साथ ही इस से जुड़ी कई अन्य जानकारिया भी दूंगी। इसीलिए इस article को ध्यान पूर्वक पढ़ें और हमारे साथ अंत तक बने रहे।

 

एक जिले में कितने SDM होते हैं?

 

SDM का पद राज्य प्रशासनिक सेवा की वरीयता में अधिक है, यह बहुत सम्मान का पद होता है और इन अधिकारियों को समाज में बहुत सम्मान मिलता है। एक जिले में सबसे अधिक सम्मान अधिकार DM को दिया जाता है और उसके बाद सबसे अधिक जिम्मेदारी वाला post SDM का ही होता है।

किसी भी राज्य में district magistrate एक ही होता है परंतु एक राज में कई सारे SDM हो सकते हैं। DM की यह जिम्मेदारी होती है कि वह राज्य की पूरी जिम्मेदारी अपने ऊपर ले और SDM का post DM के अंतर्गत ही आता है।

तो यदि हमें SDM  के बारे में अच्छे से समझना है तो हमें SDM क्या होता है इसके बारे में भी जानना आवश्यक है।

इसे भी जरूर पढ़ें 

आज के इस article में हम इन सवालों के जवाब ढूंढेंगे।

  • SDM कौन होता है?
  • SDM के क्या-क्या कार्य होते हैं?
  • SDM को मिलने वाली सुविधाएं?
  • SDM officer बनने के लिए योग्यता?

 

SDM कौन होता है?

 

SDM का मतलब sub divisional magistrate होता है। इसे हिंदी में हम उप प्रभागीय न्यायधीश भी कहते हैं। यह एक बहुत ही powerful post होती है। जब भी किसी सरकारी कार्य में रुकावट आती है या फिर कोई कर्मचारी उसे करने से मना कर देता है तो फिर हमें ऐसे समय में SDM से संपर्क करना चाहिए।

एक बार SDM ऑफिसर ने उस कार्य को करने की मंजूरी दे दी तो उसके बाद फिर कोई कर्मचारी उस कार्य को होने से रोक नहीं सकता। SDM एक उच्च rank का post होता है, इससे ज्यादा powerful post ADM की होती है। परंतु ज्यादातर सरकारी कार्य SDM के द्वारा किए जाते हैं। इस post की salary भी अन्य पदों से अधिक होती है।

SDM के पद में promotion पा कर ही आप DM बन सकते हो। बहुत सारे विद्यार्थी ऐसे होते हैं जो कि अपनी पढ़ाई अच्छे से करके SDM बनना चाहते हैं। पर बहुत सारे विद्यार्थी ऐसे हैं जिनको इसके बारे में पूरी जानकारी नहीं होती।

 

SDM के क्या-क्या कार्य होते हैं?

 

यदि बात की जाए SDM की तो हर जिले में अलग-अलग तहसील बांटा गया है। इन सभी तहसीलों की जिम्मेदारी एक SDM पर होती है।

जिले में सभी प्रकार के जमीन के कागज और इससे संबंधित लेखे जोखे का काम SDM के अंतर्गत आता है। एक एसडीम का काम जिले में गैरकानूनी कार्यों को होने से रोकना होता है। जितने भी तहसीलदार होते हैं वह सभी SDM  के अंतर्गत आते हैं।

यह सभी तहसीलदार SDM  की इजाजत के बगैर किसी भी कार्यवाही को आगे नहीं बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा एसटी/एससी और ओबीसी जैसे कई अन्य वर्गों के जन्म एवं निवास प्रमाण पत्रों को जारी करने का अधिकार केवल SDM को होता है।

SDM  का‌ काम विभिन्न प्रकार के पंजीकरण करना और licence बनाना है। राज्य में लोकसभा और विधानसभा के सदस्यों का चुनाव करना भी SDM का ही काम होता है।

 

SDM को मिलने वाली सुविधाएं?

 

यदि आप की नियुक्ति SDM के रूप में हो जाती है तो सरकार द्वारा आपको रहने के लिए एक घर दिया जाता है जो कि बिल्कुल मुफ्त होता है या फिर जिस घर की कीमत बहुत ही कम होती है।

इसके अलावा एक SDM को घर की सुरक्षा के लिए security guard और घर के कामकाज के लिए एक नौकर भी उपलब्ध करवाया जाता है। जब तक आप SDM की नौकरी कर रहे हैं तब तक आपके बिजली का बिल भी सरकार द्वारा भरा जाता है।

जिस भी राज्य में SDM की posting हुई है, यदि वह किसी सरकारी काम से राज्य में कहीं भी जाता है तो उच्च श्रेणी के आवास की व्यवस्था की जाती है।

इसके साथ ही एक driver भी प्रदान किया जाता है। इसके अलावा एक मोबाइल का connection भी करवाया जाता है जिसका पूरा खर्चा सरकार द्वारा किया जाता है। इसके अलावा retire होने के बाद SDM की पत्नी को भी पेंशन दिया जाता है। 

 

SDM officer बनने के लिए योग्यता?

 

यदि आप एक SDM officer बनना चाहते हैं तो आपको शुरुआत से ही अपने आप को तैयार करना होता है। इसके लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त college से graduation करना होता है।

साथ ही SDM officer बनने के लिए आपको art’s stream का चुनाव करना अनिवार्य है। SDM officer की आयु की बात की जाए तो वह हर वर्ग के उम्मीदवारों के लिए अलग-अलग होती है।

ST/SC वर्ग के लिए 21 वर्ष से 45 वर्ष होती है। OBC के लिए भी 21 वर्ष से 45 वर्ष की आयु सीमा निर्धारित की गई है।

परंतु जनरल के लिए 21 वर्ष से 40 वर्ष की आयु सीमा निर्धारित है। और PwD के लिए 21 वर्ष से 55 वर्ष की आयु निर्धारित की गई है।

निष्कर्ष 

आज के इस article में हमने जाना एक जिले में कितने SDM होते हैं। साथ ही हमने जाना SDM कौन होता है और SDM के क्या-क्या कार्य होते हैं। इसके अलावा हमने जाना SDM को मिलने वाली सुविधाएं के बारे में और SDM officer बनने के लिए योग्यता, हमने इस सभी के बारे में चर्चा किया।

आशा है आज के इस आर्टिकल को पढ़कर आपके मन में एक जिले में कितने SDM होते हैं, इससे संबंधित जो भी सवाल होंगे उन सभी सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Website बनाकर पैसे कैसे कमाए?  (महीने 27,000 कमाए) ✅✅✅