MCA के बाद क्या करें? | MCA ke baad kya kare

आधुनिक तकनीक वाले इस जमाने में आईटी का क्षेत्र एक बहुत बड़ा और सफल क्षेत्र बन चुका है। आप के समय में बिना तकनीक के लोग अपने काम की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं।

ऐसे में यदि बात कंप्यूटर की करें तो जो सबसे पहला करियर ऑप्शन सामने आता है वह है MCA का कोर्स। MCA का मतलब masters of computer application होता है। तो जो भी विद्यार्थी इस कोर्स को कर चुके हैं वह अब आगे क्या कर सकते हैं इसके बारे में जानेंगे।

तो आज के इस आर्टिकल में एमसी के बाद क्या करें, हम इसके बारे में जानेंगे। इसके साथ ही इस से जुड़ी कई अन्य बातों के बारे में भी चर्चा करेंगे। तो आज के इस आर्टिकल को बड़े ही ध्यानपूर्वक पढ़ें और हमारे साथ अंत तक बने रहे।

MCA के बाद क्या करें?

MCA का कोर्स करने के बाद या तो अपने आगे की पढ़ाई जारी रख सकते हैं या फिर आप MCA का कोर्स करने के बाद अच्छी नौकरी कर सकते हैं। तो फिर चलिए एक-एक करके हम इन दोनों के बारे में जानते हैं।

सबसे पहले हम जानेंगे कि आप एम सी ए का कोर्स करने के बाद आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आपके पास क्या-क्या विकल्प मौजूद है।

इसे भी जरूर पढ़ें

आज के इस आर्टिकल में हम इन सभी सवालों के जवाब ढूंढेंगे?

  • MCA कोर्स के बाद आगे की पढ़ाई?
  • कंप्यूटर विज्ञान कोर्स में पीएचडी के लिए कॉलेज ?
  • Business analyst
  • Problem solver
  • Software application analyst
  • Software consultant
  • Technical Writer

MCA कोर्स के बाद आगे की पढ़ाई?

एमसी का कोर्स करने के बाद यदि आप आगे पढ़ना चाहते है तो आप एमई (कंप्यूटर साइंस एवं इंजीनियरिंग) का कोर्स कर सकते हैं।

एम सी ए का कोर्स करने के बाद यदि आप पीएचडी करना चाहते हैं तो उसके लिए आपके पास Reserve Gate Test Score के साथ-साथ आपके पास MCA कोर्स की डिग्री भी होनी चाहिए। एमसी का कोर्स करने के बाद आपको पीएचडी करने में 2 साल से 5 साल तक का समय लग सकता है।

कंप्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में पीएचडी करने के लिए आपके पास कई सारे विश्वविद्यालयों का विकल्प होता है। तो अब हम कुछ अच्छे कंप्यूटर विज्ञान कोर्स मे पीएचडी के विश्वविद्यालयों के बारे में जानेंगे।

कंप्यूटर विज्ञान कोर्स में पीएचडी के लिए कॉलेज ?

  • Department of computer science, Banaras Hindu University.
  • Indian Institute of Technology, Delhi.
  • Indian Institute of Technology, Hyderabad.
  • Indian Institute of Technology, Calicut.
  • Symbiosis Institute of computer studies and research, Puna.
  • National Institute of Technology, Mumbai.
  • National Institute of Technology, Guwahati.
  • National Institute of Technology, Kanpur.
  • Bengal Engineering and Science University, Kolkata

यह सभी कुछ कॉलेजेस के नाम है जो कि आपको MCA के आगे के कोर्स करने में मददगार साबित होगा।

MCA के बाद जॉब options

अब हम जानेंगे की यदि विद्यार्थी MCA का कोर्स करने के बाद आगे की पढ़ाई ना करके किसी जॉब का सोचे तो वह किस प्रकार की जॉब कर सकता है, क्योंकि MCA में काम के कई क्षेत्र है।

  • Business analyst
  • Problem solver
  • Software application analyst
  • Software consultant
  • Technical writer

Business analyst

इस क्षेत्र में जाने के लिए आपको ना केवल एम सी ए का कोर्स करना अनिवार्य है इसके साथ ही आपके पास कई सारी खूबियां भी होनी चाहिए।

जैसे कि आपको प्रमुख मुद्दों का विश्लेषण करना आना चाहिए, इसके साथ ही आप में निर्णय लेने की क्षमता भी होनी चाहिए और आप बड़ी समस्याओं को भी विनम्रता पूर्वक हल कर लेते हो तो आप एक बिजनेस एनालिस्ट बनने के लिए पूरी तरह योग्य हो जाते हो, और आप आगे क्षेत्र में अपना अच्छा कैरियर बना सकते हैं।

एक बिजनेस का काम संबंधित व्यवसाय के टेक्निकल और नॉन टेक्निकल पहलू को ट्रैक करना और उसके अनुसार महत्वपूर्ण परिवर्तनों की राए देना है।

Problem solver

यदि बात की जाए प्रॉब्लम सॉल्वड की तो कोई भी कंपनी बिना प्रॉब्लम फॉरवर्ड के चल नहीं सकती। एक समस्या निवारक कंप्यूटर की सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर की समस्याओं को दूर करता है और Technology तो उन सभी लोगों के लिए accessible बनाता है जिन्हें इसकी जरूरत है।

यदि किसी कंपनी में कोई IT समस्या सामने आती है, तो इस समस्या का समाधान का काम समस्या निवारक का होता है। यदि आप चुनौतियों का सामना करना पसंद करते हैं और हर बार जब भी आपको कोई काम सौंपा जाए उसे हर हाल में पूरा करने का जज्बा रखते हैं तो आप इस क्षेत्र में काफी तरक्की कर सकते हैं।

Software application analyst

यदि आपकी visualization skill अच्छी है तो आप सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट्स के रूप में काम कर सकते हैं। सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट्स IT उत्पादों और सेवाओं के डिजाइन और वस्तुकला में उच्च स्तरीय निर्माण लेने की प्रक्रिया में शामिल है।

एक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन आर्किटेक्ट्स के काम की प्रमुख जानकारी क्षेत्र तकनीकी मैनुअल और प्रोटोकॉल जैसे टुल, एप्लीकेशन और सॉफ्टवेयर कोडिंग मानकों को विकसित करता है।

Software consultant

यदि बात करें सॉफ्टवेयर कंसलटेंट की तो आज के समय में यह एक लोकप्रिय करियर ऑप्शन के रूप में सामने आ रहा है।

एक सॉफ्टवेयर कंसल्टेंट का काम वेबसाइट प्रक्रिया का मूल्यांकन और विश्लेषण करना है, व्यवसायिक दक्षता को चलाने के लिए बेहतर से बेहतर सॉफ्टवेयर समाधान प्रदान करता है।

एक सॉफ्टवेयर कंसलटेंट का उद्देश्य संबंधित कंप्यूटर की बिक्री को बढ़ाना के लिए कम लागत के व्यवसाय समाधान प्रदान करना है।

Technical Writer

यदि आप बोलने के साथ-साथ लिखने में भी अच्छे हो तो आप अपने करियर ऑप्शंस में टेक्निकल राइटर को भी चुन सकते हैं।

इसके लिए आपको न्यूनतम तकनीकों के साथ-साथ गैजेट्स और लेखन के प्रति लगाव होना चाहिए। सामान्यता एक तकनीकी लेखक तकनीकी दस्तावेज जैसे उत्पाद विवरण, उपयोगकर्ता गाइड आदि के लिए जिम्मेदार होते हैं।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने जाना MCA के बाद क्या करें।

इसके साथ ही हमने जाना MCA कोर्स के बाद आगे की पढ़ाई, कंप्यूटर विज्ञान कोर्स में पीएचडी के लिए कॉलेज, Business analyst, Problem solver, Software application analyst और Software consultant, Technical Writer के बारे में।

आशा है आज के इस आर्टिकल को पढ़कर आपके मन में एमसीए के बाद क्या करें से संबंधित जो भी प्रश्न होंगे उन सभी प्रश्नों के उत्तर आपको मिल गए होंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Website बनाकर पैसे कैसे कमाए?  (महीने 27,000 कमाए) ✅✅✅