एमटेक (M-Tech) के बाद क्या करें? | MTech ke baad kya kare

आज हम जानेंगे M.tech के बाद क्या करें? एमटेक (M-Tech) के बाद क्या करें?, MTech ke baad kya kare, एमटेक की डिग्री लेने के बाद करियर में कौन-कौन से नए ऑप्शंस खुलते हैं? (What To Do After Match)

M-tech पूरी होने के बाद तुरंत कोई जब लेकर सेटल होना ही सही है,या आगे भी पढ़ाई कर कर भविष्य में और बेहतर किया जा सकता है?

दोस्तों एमटेक कर रहे और एमटेक की डिग्री प्राप्त कर लेने वाले छात्रों के मन में भी इस तरह के सवाल जरूर आते होंगे। दोस्तों बचपन में पूछे जाने पर कि बड़े होकर क्या बनना चाहते हो, हम सभी में ने कभी ना कभी उस सवाल का जवाब इंजीनियर दिया ही होगा।

दोस्तों इंजीनियरिंग एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें आजकल के ज्यादातर युवा अपना करियर बनाना चाहता है हर कोई इंजीनियरिंग करना चाहता है इंजीनियरिंग की डिग्रियां प्राप्त करके अच्छी कंपनी में नौकरी पाकर अपना भविष्य सुनिश्चित करना चाहता है , कोई entrepreneur बनना चाहता है, या कोई किसी बड़ी कंपनी में बड़े पैकेज पर काम कर कर ही खुश रहता है।

अगर आपकी रूचि भी इंजीनियरिंग क्षेत्र में है तो आपने बीटेक, एमटेक का नाम जरूर सुना होगा बहुत कोई m-tech की पढ़ाई अच्छे कॉलेज से करना चाहते हैं जिससे उनका भविष्य सुरक्षित हो जाए। छात्रों को ऐसा लगता है कि इंजीनियर में एमटेक जैसे डिग्री प्राप्त करने के बाद कर लेने के बाद जॉब लेकर उनका फ्यूचर सेट हो ही जाएगा और यह बात बहुत हद तक सही भी होती   है,लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो हम टेक कर लेने के बाद तुरंत जॉब नहीं करना चाहते, या तो उनके रूचि किसी दूसरे फील्ड में हो जाती है, या तो उन्हें इस बात का कन्फ्यूजन होता है कि एमटेक के बाद क्या करें, या वे पूरी तरह sure नहीं होते हैं।

एमटेक के बाद क्या करें? (What To Do After Match)

दोस्तों आज इस लेख में हम आपको बताने  कि कोशिश करेंगे कि एमटेक कर लेने के बाद तुरंत किसी अच्छी कंपनी में जॉब लेने के साथ-साथ आपके लिए भविष्य में और क्या-क्या करने के ऑप्शन होते हैं, आप किन रास्तों को चुन सकते हैं, यकीन क्षेत्र में अपना करियर बनाने की सोच सकते हैं-

दोस्तों अगर आसान शब्दों में सीधे-सीधे, point wise कहे तो मुख्यता आप इन चार बिंदुओं पर ध्यान दे सकते हैं—

  • M-tech के डिग्री मिलते ही तुरंत किसी अच्छी कंपनी में जॉब प्राप्त कर सकते हैं-
  • पीएचडी जैसी रिसर्च डिग्री में एडमिशन ले सकते हैं-
  • इंजीनियरिंग क्षेत्र में टीचिंग प्रोफेशन को चुन सकते हैं-
  • Entrepreneur, यानी खुद की कंपनी खोल सकते हैं

M-tech करने के बाद क्या करें? (M.tech karne ke baad kya kare)

M-tech की डिग्री मिलते ही जॉब करना

दोस्तों इंजीनियरिंग जैसे लोकप्रिय प्रोफेशन में ज्यादातर छात्र जाते हैं इसलिए है कि एक अच्छी कॉलेज से इंजीनियरिंग की डिग्री पाकर पढ़ाई पूरी होने पर वह एक अच्छी कंपनी में जॉब कर सकें एवं आसानी से अपना भविष्य सुरक्षित कर सके। एमटेक की डिग्री पा लेने के बाद छात्र डिग्री होल्डर्स बन जाते हैं और बड़े आईटी कंपनियों एवं उस जैसे अन्य कंपनियों में इस तरह के employees की काफी मांग रहती है।

दोस्तों आज के समय में भारत सरकार रिसर्च एंड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट, आदि जैसे संस्थानों के विकास पर काफी ध्यान दे रही है। इन जैसे संस्थानों आईटी कंपनियों एवं अन्य मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स में काम करने के लिए योग्य एवं डिग्री होल्डर्स की भारी मांग रहती है। इंजीनियरिंग मैं एमटेक की डिग्री लेने के बाद छात्र ऐसे ही संस्थानों कंपनियों और इन जैसे यूनिट्स में नौकरी पाने की चाह रखते हैं, आज के समय में इन जैसे कंपनियों और संस्थानों की कोई कमी नहीं है सही ज्ञान और अनुभव वाले एम्पलॉइस की जरूरत हमेशा रहती है,

M.tech करते हुए अगर आप अपने सब्जेक्ट में एक्सपर्ट बन चुके हैं आप हर तरह से किसी विशेष सब्जेक्ट में निपुण हो चुके हैं तो उस ज्ञान और अनुभव के सहारे आपको योग्य होने पर आसानी से किसी बड़े कंपनी में बड़े ताकत के साथ नौकरी मिल सकती है। आप इन क्षेत्रों में रिसर्च एसोसिएट,सीनियर इंजीनियर आदि की जॉब आसानी से पा सकते हैं, आज के समय में इस तरह के जॉब थी पसंद किए जाते हैं एवं इनसे आप अपने भविष्य को बेहतर सुरक्षित कर सकते हैं।

चुकी एमटेक की डिग्री मिलने के बाद जॉब पाना ज्यादातर छात्रों की पहली पसंद होती है इसका मतलब यह बिल्कुल भी नहीं होता कि जॉब करना ही एकमात्र विकल्प है इसके अलावा भी आप काफी ऑप्शंस में से चुनाव कर सकते हैं। इन सबके अलावा BARC एवं इसरो आदि जैसे संस्थानों में भी इस तरह के डिग्री होल्डर्स और अनुभव वाले एंप्लाइज की काफी जरूरत रहती है।

पीएचडी जैसे रिसर्च डिग्री में एडमिशन लेना

दोस्त अगर आपने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर ली है और अभी भी आप पढ़ाई से ओबे नहीं है आप अपनी इच्छा से और आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं,तो हो सकता है आप पीएचडी करके रिसर्च फील्ड को चुनना पसंद करें। अगर आपकी वाकई पढ़ाई में रुचि है तो आप पीएचडी जैसी रिसर्च फील्ड को चुनकर अपने पसंदीदा सब्जेक्ट में और आगे की पढ़ाई एवं उससे संबंधित रिसर्च कर सकते हैं।

एमटेक करने के दौरान जिस सब्जेक्ट में आपका स्पेशलाइजेशन रहा है पीएचडी जैसे डिग्री में एडमिशन लेने पर भी आपका अध्ययन उसी सब्जेक्ट से संबंधित होता है।उदाहरण के लिए अगर आपने m tech में मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है तो पीएचडी में भी आपका ध्यान उसी से संबंधित होगा। आजकल पीएचडी में इंटर डिसीप्लिनरी अप्रोच भी काफी चर्चा में है इसका मतलब यह होता है कि पीएचडी करने वाला कोई छात्र एक साथ दो सब्जेक्ट में स्पेशलाइजेशन कर सकता है जिसके लिए एक साथ एक से ज्यादा एक्सपर्ट्स की आवश्यकता पढ़ती है।

हालांकि आप का वास्तविक रिसर्च एरिया आखिर में institute कमेटी का समृद्ध विभाग स्टूडेंट के नॉलेज और इंस्टिट्यूट को देखकर ही निर्धारित करता है। एमटेक के बाद पीएचडी रिसर्च फील्ड में जाने पर स्कॉलरशिप के भी भरपूर ऑप्शन सोते हैं, डिपार्टमेंट ऑफ़ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी, डिपार्टमेंट ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, यूजीसी जैसे संस्थान छात्रों को विभिन्न प्रकार के स्कॉलरशिप प्रदान करते हैं एवं इसमें महिलाओं के लिए भी अलग से स्कॉलरशिप की व्यवस्था होती है।

इन सरकारी संस्थानों के अलावा सेल और माइक्रोसॉफ्ट जैसी कंपनियां भी उस विशेष क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन प्राप्त किए हुए छात्रों को स्कॉलरशिप ऑफर करता है। साथ ही साथ कहीं बाहर की कंपनियां विदेश में रिसर्च एंड डेवलपमेंट को बढ़ावा देने के लिए इन्वेस्टमेंट देकर अपना योगदान करती है।

पीएचडी एप ओपन एंडेड प्रोग्राम होता है, और इससे तब तक पूरा नहीं समझा चाहता जब तक स्टूडेंट अपने रिसर्च के काम को पूरी तरह और पूरी लगन से ना करें। इसके लिए जरूरी है जी छात्र इसमें अपने एरिया आफ एक्सपर्टीज के अनुसार ही सब्जेक्ट को चुने कॉलेज में एडमिशन लेने से पहले अच्छी तरह से कॉलेज व्यवस्था और यहां के लाइब्रेरी एवं लब इक्विपमेंट आदि की सही तरह से जांच कर ले। पीएचडी करने के लिए देश के साथ साथ दूसरे अन्य देशों में जाकर भी पीएचडी की डिग्री प्राप्त करना एक विकल्प है,दूसरे देशों में ऑस्ट्रेलिया एवं जर्मनी जैसे देशों को पीएचडी करने के लिए सही माना जाता है।

इंजीनियरिंग क्षेत्र में टीचिंग प्रोफेशन को चुनना

दोस्तो इंजीनियरिंग कर रहे हर छात्र के मन में किसी कंपनी में जॉब करना या एंटरप्रेन्योर बन्ना आदि जैसी इच्छा ही नहीं होती, कुछ टीचिंग प्रोफेशन में भी अपना करियर बनाना चाहते हैं। अगर आपने इंजीनियरिंग की है और आप पढ़ाने की इच्छा रखते हैं टीचिंग को ही अपने करियर के रूप में देखते हैं तो इंजीनियरिंग के क्षेत्र में भी टीचिंग प्रोफेशन काफी सही विकल्प होता है।

दोस्तों गेट (GATE) यानी ग्रेजुएट एप्टिट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग जैसे परीक्षाओं को पास करके एमटेक में एडमिशन लेना, आईआईटी एवं एनआईटी जैसे संस्थानों में पढ़कर किसी विशेष सब्जेक्ट में स्पेशलाइज्ड होकर उस ज्ञान और अनुभव के सहारे टीचिंग प्रोफेशन में भी करियर बनाया जा सकता है। अगर आप टीचिंग प्रोफेशन में जाना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास बेहतर कम्युनिकेशन स्किल्स और बेहतर प्रेजेंटेशन स्किल्स का होना जरूरी है, साथ ही छात्रों एवं अपने साथियों के साथ के साथ व्यवहार में भी कुशल होना जरूरी है। एमपी के बाद टीचिंग प्रोफेशन में भी आप बड़े बड़े संस्थानों में एक टीचर के रूप में काम कर सकते हैं।

इसे भी काफी रिस्पेक्टफुल माना जाता है। यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन ने भी किसी संस्थान में लेक्चरर या सहायक प्रोफेसर की पद पर होने के लिए एमटेक तक की डिग्री को अनिवार्य कर दिया है। अगर आप भी खुद को टीचिंग में उन पदों पर देखना चाहते हैं तो आपके पास एमटेक की डिग्री होना आपके लिए सही साबित होगा। फतेह एमटेक की डिग्री मिलने के बाद टीचिंग प्रोफेशन में जाना भी एक बहुत ही सही विकल्प होता है

एंटरप्रेन्योर बनाना/खुद की कंपनी खोलना

दोस्तों अगर इंजीनियरिंग में आपने अपनी एमटेक की डिग्री प्राप्त कर ली है और आप किसी दूसरे कंपनी में काम नहीं करना चाहते, आगे की पढ़ाई में भी आपकी विशेष रूचि नहीं है, और आपके मन में किसी दूसरे प्रोफेशन में जाने की इच्छा भी नहीं है, तो आप एंटरप्रेन्योरशिप यानी किसी नए और इनोवेटिव आइडिया के साथ अपनी खुद की कंपनी खोल सकते हैं।

दोस्तों आज के समय में कई लोग एंटरप्रेन्योर बनना चाहते हैं। दोस्तों आज के समय में कई ऐसी बड़ी कंपनियां या ऐसे बड़े संस्थान होते हैं जो छोटे और इनोवेटिव आइडिया की कद्र करते हैं एवं उस के साथ कोई नई कंपनी खोलने पर उसके लिए फंडिंग इत्यादि भी करते हैं। दोस्तों एक सफल एंटरप्रेन्योर बनने के लिए आपके पास किसी विशेष या अपने सब्जेक्ट विशेष मे स्पेशलाइज्ड होना बहुत जरूरी है।

अगर आपके अंदर वाकई अपनी खुद की कंपनी खोलने एवं उस कंपनी को आगे ले जाने का कॉन्फिडेंस और उसके लिए जरूरी ज्ञान और स्किल है तो एमपी के बाद एंटरप्रेन्योर बनना ही आपके लिए सबसे बेहतर विकल्पों में से एक है। दोस्तों आपको अपनी खुद की कंपनी खोलने के लिए  फंडिंग उसके साथ साथ उसके लिए जरूरी ज्ञान और अनुभव की भी भरपूर आवश्यकता होती है , जिसे प्राप्त करके उसका सही इस्तेमाल करना आप पर निर्भर करता है।

दोस्तों एक सफल एंटरप्रेन्योर के पास भी बेहतर कम्युनिकेशन स्किल बेहतर प्रेजेंटेशन स्किल आदि का होना जरूरी है। इन सभी के साथ अपनी खुद की कंपनी खोलकर एक सफल एंटरप्रेन्योर और बनना भी सबसे उज्जवल और सुरक्षित कैरियर में से एक है।

Conclusion

आज हमने यह तो जान लिया कि एमटेक के बाद क्या करें (MTech ke baad kya kare) या एमटेक के बाद हमारे पास क्या किया कैरियर ऑप्शन होते हैं करने के लिए।

ऐसी बात नहीं है कि एमटेक के बाद आप सिर्फ इतनी ही कोर्स या इतने ही कैरियर ऑप्शन आपके पास उपलब्ध होते हैं इसके अलावा भी और भी कई अलग-अलग प्रकार के कैरियर ऑप्शन उपलब्ध होते हैं।

आपको जरूरत है सिर्फ और सिर्फ रिसर्च करने के यानी कि आप कुछ भी कोर्स कर रहे हो या कर चुके हैं उसके बारे में पूरी जानकारी निकालें वह चाहे इंटरनेट के माध्यम से हो यूट्यूब के माध्यम से हो गूगल के माध्यम से हो या अपने आसपास के लोगों से पता करें।

यहां तक पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद आपका भविष्य उज्जवल हो।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Game खेलकर पैसे कैसे कमाए