पीएचडी (PHD) कितने साल का होती है? | PHD kitne saal ka hota hai

नमस्कार दोस्तों आज मैं आप लोगों को बताने वाला हूं कि पीएचडी कितने साल का होती है कितने वर्ष में हम पीएचडी को पूरी कर सकते हैं तथा पीएचडी पूरी करने के लिए न्यूनतम और अधिकतम समय कितना लग सकता है।

तथा पीएचडी से जुड़ी और भी कुछ जरूरी सवालों के उत्तर मै आज आपको देने वाला हूं इसलिए इसे पूरे ध्यान से पढ़िए ताकि आपके मन में पीएचडी से जुड़ी कोई भी सवाल ना रहे।

आज के इस आर्टिकल में हम इन सभी सवालों के जवाब ढूंढेंगे।

  • पीएचडी कितने साल की होती है?
  • पीएचडी कोर्स में समय क्यों लगता है?
  • पीएचडी कोर्स करने के 2 तरीके क्या है?
  • फुल टाइम पीएचडी कोर्स ?
  • फुल टाइम पीएचडी कोर्स कितने साल की होती है?
  • पार्ट टाइम पीएचडी कोर्स?
  • पार्ट टाइम पीएचडी कोर्स कितने साल की होती है?
  • फुल टाइम पीएचडी करें या पार्ट टाइम पीएचडी करें?

पीएचडी कितने साल की होती है?

यदि बात की जाए PhD की, तो यह कोर्स 3 सालों का होता है। इसका मतलब यह है कि इस कोर्स की अवधि आम तौर पर 3 सालों की होती है। यानी कि 3 वर्षों के अंदर आप अपनी PHD की पढ़ाई पूरी कर सकते हो। परंतु इसमें आपको यह सुविधा भी दी जाती है कि आप इस कोर्स को 6 सालों तक करे।

सुविधा का मतलब यह है कि PhD के कोर्स में हमें research और thesis करना होता है, और इस कोर्स को 3 सालों में पूरा करने के लिए हमें बहुत मेहनत करनी पड़ती है और काफी समय भी देना पड़ता है। इसलिए ऐसे छात्र जो कि अपनी PhD के कोर्स में ज्यादा समय नहीं दे पाते वैसे विद्यार्थी PhD का कोर्स 6 सालों में भी पूरा कर सकते हैं जिसमें वह काफी अच्छे से अपने research और thesis को टाइम दे सकते हैं।

पीएचडी कोर्स में समय क्यों लगता है?

पीएचडी कोर्स में इतना समय इसलिए लगता है क्योंकि इस कोर्स के दौड़ा आपको टॉपिक की विस्तार से रिसर्च करनी होती है। इसके लिए उम्मीदवारों को लोगों के बीच जाकर रिसर्च करनी होती है। रिसर्च के लिए हमें बहुत सारा data collect करना पड़ता है और इसीलिए यह काम बिल्कुल भी आसान नहीं होता है। इसे बिल्कुल अपने रिजल्ट की तरह तैयार करना होता है और फिर इसमें thesis लिखना होता है।

यदि thesis/theory की बात करे PhD में आपकी theory कम से कम 70,000 से 80,000 शब्दों में बनानी होती है और अच्छी तरह से research करके thesis लिखने में समय लगता ही है और पीएचडी के कोर्स में ज्यादा वक्त लगने का मुख्य कारण यही है।

आप जब भी पीएचडी का कोर्स करने के लिए दाखिला लोगे तब आप देखोगे कि आपको एक गाइड या सुपरवाइजर के अंदर यह कोर्स करना होता है।

पीएचडी कोर्स करने के 2 तरीके क्या है?

पीएचडी करने के दो तरीके हैं और आप इन 2 तरीकों में किसी भी तरीके से पीएचडी का कोर्स कर सकते हैं।

  • फुल टाइम पीएचडी (full time PhD)
  • पार्ट टाइम पीएचडी (Part time PhD)

फुल टाइम पीएचडी कोर्स?

फुल टाइम पीएचडी में आपको कॉलेज में अपना एडमिशन कराना होगा और आपको हर दिन कॉलेज जाना भी होगा आप बिना कॉलेज जाए पीएचडी को पूरी नहीं कर सकते।

इसमें कुछ मिनिमम अटेंडेंस भी होता है और अटेंडेंस की मिनिमम percentage

आपको पूरी करनी ही होगी पीएचडी को पूरी करने के लिए।

इसे भी जरूर पढ़े

फुल टाइम पीएचडी कोर्स कितने साल की होती है?

फुल टाइम पीएचडी कम से कम आप 3 वर्ष में तथा अधिक से अधिक आप 6 वर्ष में पूरी कर सकते हैं।

अगर मैं पहले की बात करूं तो पहले पीएचडी को पूरी करने में 18 महीने का समय लगता था लेकिन अब ऐसा नहीं है अब आपको पीएचडी करने के लिए कम से कम 3 वर्ष का वक्त लगेगा ही लगेगा।

पार्ट टाइम पीएचडी कोर्स?

पार्ट टाइम पीएचडी उसे कहते हैं जहां आपको हर दिन कॉलेज नहीं जाना पड़ता है और आप घर बैठे अपनी पढ़ाई करके पीएचडी का कोर्स पूरा कर सकते हैं।

आज के समय में पार्ट टाइम पीएचडी करना ज्यादा फायदेमंद साबित नहीं होता है क्योंकि पार्ट टाइम पीएचडी को मान्यता कम दी जाती है जिसके चलते भविष्य में विद्यार्थी को काफी परेशानी आती है।

पार्ट टाइम पीएचडी कोर्स कितने साल की होती है?

पार्ट टाइम पीएचडी को पूरी करने के लिए आपको कम से कम 5 से 6 वर्ष का वक्त लगता है अगर कोई कॉलेज 5 से 6 वर्ष से कम समय में PhD का कोर्स पूरा करने का वादा करता है तो ऐसे कॉलेज से आपको दूर रहना चाहिए।

फुल टाइम पीएचडी करें या पार्ट टाइम पीएचडी करें?

आपने जाना की फुल टाइम पीएचडी क्या होती है तथा पार्ट टाइम पीएचडी क्या होती है।

अब सवाल यह उठता है कि हमें फुल टाइम पीएचडी करनी चाहिए या पार्ट टाइम पीएचडी करनी चाहिए इन दोनों में क्या अंतर है और हमारे लिए कौन से पीएचडी फायदेमंद साबित हो सकती है।

मेरी राय माने तो आपको अधिक से अधिक कोशिश करनी चाहिए फुल टाइम पीएचडी करने की,क्योंकि आजकल पार्ट टाइम पीएचडी को मान्यता कम दी जाती है तथा यह भी हो सकता है कि भविष्य में पार्ट टाइम पीएचडी की मान्यता को समाप्त भी कर दिया जाए।

इसलिए आपको risk नहीं लेनी चाहिए और पार्ट टाइम पीएचडी करने के मुकाबले फुल टाइम पीएचडी करने पर ज्यादा जोर देनी चाहिए ताकि भविष्य में आपको कोई दिक्कत ना हो।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने जाना पीएचडी कितने साल की होती है। साथ ही हमने जाना पीएचडी कोर्स में समय क्यों लगता है, पीएचडी कोर्स करने के 2 तरीके क्या है, फुल टाइम पीएचडी कोर्स, फुल टाइम पीएचडी कोर्स कितने साल की होती है, पार्ट टाइम पीएचडी कोर्स, पार्ट टाइम पीएचडी कोर्स कितने साल की होती है और फुल टाइम पीएचडी कोर्स करें या पार्ट टाइम पीएचडी कोर्स करें, हमने इन सभी के बारे में चर्चा की।

आशा है आज के इस आर्टिकल को पढ़कर आपके मन में पीएचडी कितने साल की होती है इससे संबंधित जो भी सवाल होंगे उन सभी सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Website बनाकर पैसे कैसे कमाए?  (महीने 27,000 कमाए) ✅✅✅