सर्वनाम कितने प्रकार के होते हैं | Sarvnam kitne prakar ke hote hain?

आज इस आर्टिकल में हम सर्वनाम के कितने भेद होते हैं? (Sarvanam ke kitne bhed hote Hain), सर्वनाम कितने प्रकार के होते हैं? (Sarvnam kitne prakar ke hote hain), सर्वनाम किसे कहते हैं? (Sarvanam kise kahte hain?) इनके बारे में विस्तार से जानेंगें।

दोस्तों जब बात आती है किसी भी भाषा की तो उसका आधार उसका व्याकरण ही होता है। उसी प्रकार हिंदी व्याकरण भी हिंदी का आधार है। हिंदी भाषा को शुद्ध रूप से बोलने और लिखने के लिए जो जरूरी नियम होते हैं उन्हें हिंदी व्याकरण के अंतर्गत ही पढ़ा जाता है। यानी सही तौर पर हिंदी सीखने के लिए व्याकरण अनिवार्य है।

आज इस लेख में हम हिंदी व्याकरण की एक महत्वपूर्ण पाठ सर्वनाम के बारे में जानेंगे। सर्वनाम क्या है? और मुख्य रूप से, सर्वनाम के कितने भेद होते हैं ? उन सभी को एक-एक करके उदाहरण सहित समझने का प्रयास करेंगे –

सर्वनाम किसे कहते हैं?

सर्वनाम की परिभाषा में, संज्ञा के स्थान पर जिन शब्दों  का इस्तेमाल किया जाता है वह सर्वनाम कहलाते हैं। संज्ञा जैसा कि हम सभी को पता है किसी व्यक्ति वस्तु प्राणी स्थान इत्यादि का नाम होता है इसीलिए किसी नाम के स्थान पर इस्तेमाल होने वाले शब्द को सर्वनाम कहा जाता है। शाब्दिक अर्थ में सर्वनाम का मतलब होता है सब का नाम।

किसी वाक्य में संज्ञा के लिखे होने पर उस व्यक्ति, वस्तु या स्थान विशेष का ही बोध होता है वही सर्वनाम शब्द  सब का  बोध कराते हैं। उदाहरण के लिए ‘राम नाच रहा है’ वाक्य में राम संज्ञा है और इससे सिर्फ राम का ही बोध हो रहा है, इसके स्थान पर यदि ‘वह नाच रहा है’ रहे तो वह किसी के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है, अतः यह सब का बोध करा रहा है एवं सर्वनाम है।

आप, हम, इस, उस, मै, तू, यह, वह, जो, सो, कौन, क्या, कोई, कुछ इत्यादि सर्वनाम के कुछ उदाहरण है जिनका इस्तेमाल सामान्य तौर पर किया जाता है।

सर्वनाम के कितने भेद होते हैं? (Sarvnam ke kitne bhed hote hain?)

मुख्य रूप से सर्वनाम को छह भागों में वर्गीकृत किया गया है। सर्वनाम के छह भेद निम्नलिखित हैं –

  • पुरुषवाचक सर्वनाम
  • संबंधवाचक सर्वनाम
  • निश्चयवाचक सर्वनाम
  • अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  • प्रश्नवाचक सर्वनाम
  • निजवाचक सर्वनाम

ऊपर दिए गए सर्वनाम के 6 भेदों को एक-एक करके उदाहरण सहित समझते हैं –

1. पुरुषवाचक सर्वनाम

वाक्य में उपस्थित पुणे शब्द पुरुषवाचक सर्वनाम होते हैं जिनसे वक्ता यानी बात करने वाला, श्रोता यानी बात को सुनने वाला, तथा तीसरे व्यक्ति यानी जिसके बारे में बात की जा रही है आदि का बोध  होता हो। इन तीनों का  बोध कराने वाले शब्द पुरुषवाचक सर्वनाम होते हैं।

पुरुषवाचक सर्वनाम के भी तीन भेद होते हैं जो निम्नलिखित है

 क -उत्तम पुरुष -बात करने वाले व्यक्ति यानी कि वक्ता को उत्तम पुरुष कहा जाता है उत्तम पुरुष सर्वनाम के उदाहरण हम, मैं, मेरा, मुझको, हमारा, हमें, मुझे इत्यादि है।

ख – मध्यम पुरुष – वाक्य में बात को सुनने वाला व्यक्ति यानी कि श्रोता को मध्यम पुरुष कहा जाता है। मध्यम पुरुष सर्वनाम के उदाहरण में तुम, तुम्हें, तेरा, तुम्हारा  इत्यादि है।

ग- अन्य पुरुष – वक्ता और श्रोता को छोड़कर जिस तीसरे व्यक्ति के बारे में बात हो रही हो उसे अन्य पुरुष सर्वनाम कहा जाता है। अन्य पुरुष सर्वनाम के उदाहरण में उसे, उसके, उसका, उसको, वह, उनको इत्यादि है।

2. संबंधवाचक सर्वनाम

इस सर्वनाम का इस्तेमाल किसी दूसरी संज्ञा या सर्वनाम से संबंध दिखाने के लिए किया जाता है। वाक्य में जब भी कोई संबंधवाचक सर्वनाम लिखा जाएगा तो उसका संबंध किसी दूसरे संज्ञा या सर्वनाम से बताया जाता है। उदाहरण के लिए ‘जिसकी लाठी उसकी भैंस’ इस वाक्य में जिसकी तथा उसकी के बीच में संबंध का पता चल रहा है, अतः ये संबंधवाचक सर्वनाम है।

जो – सो, जिसका – उसका, इत्यादि संबंधवाचक सर्वनाम के उदाहरण है।

  • जो करता है वह भरता है।
  • जितना बोओगे उतना ही पाओगे।
  • जो कर्म करेगा वही फल पाएगा।

ऊपर दिए गए दोनों उदाहरणों में जो – वह, जितना – उतना, जो – वही इत्यादि संबंधवाचक सर्वनाम है।

3. निश्चयवाचक सर्वनाम

उन शब्दों को निश्चयवाचक सर्वनाम कहा जाता है जिनके लिखे होने से वाक्य में किसी वस्तु, व्यक्ति या प्राणी के निकट या दूर होने का पता चलता हो। यह सर्वनाम सामने या दूर के किसी व्यक्ति या वस्तु की ओर संकेत करते हैं।

निश्चयवाचक सर्वनाम के सामान्य उदाहरण यह, वह , ये, वे इत्यादि होते हैं।

  • वह गाड़ी जो खड़ी है, वह मेरी है।
  • ये हमारा वाला खाना है और वह तुम्हारा वाला।
  • वे लोग जो खड़े हैं वही बांट रहे हैं।

ऊपर दिए गए उदाहरणों में यह वह ये वे इत्यादि के लिखे होने से वस्तु या व्यक्तियों की दूर या सामने होने का पता चल रहा है।

4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम

ऐसे सर्वनाम को अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहा जाता है जिनके वाक्य में लिखे होने से किसी निश्चित व्यक्ति, वस्तु या पदार्थ का पता ना चलता हो। उनके वाक्य में लिखे रहने पर निश्चित तौर पर किसी व्यक्ति या वस्तु का बोध नहीं होता है।

अनिश्चयवाचक सर्वनाम के उदाहरण में कोई, कुछ इत्यादि जैसे शब्द आते हैं।

  • कोई कुछ रख कर यहां चला गया है।
  • देखने में कुछ ज्यादा लग रहा है।
  • मुझे लगा वहां पर कोई है।

ऊपर लिखे हुए वाक्यों में कोई कुछ के लिखे होने पर निश्चित तौर पर यह पता नहीं चल रहा है कि किसकी बात की जा रही है।

5. प्रश्नवाचक सर्वनाम

जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है कि जिन सर्वनाम शब्दों से किसी प्रश्न यानी सवाल का पता चलता हो वे प्रश्नवाचक सर्वनाम होते हैं। इनका इस्तेमाल प्रश्न पूछने के लिए किया जाता है। क्या, कौन, कहां जैसे प्रश्नवाचक सर्वनाम का इस्तेमाल सामान्य तौर पर किया जाता है।

  • तुम यह क्या अजीबोगरीब काम कर रहे हो?
  • क्या तुम्हारा रिजल्ट आ गया?
  • इन सभी के बीच कौन खड़ा है?

ऊपर दिए गए उदाहरणों में क्या कौन इत्यादि सर्वनाम से प्रश्न पूछा जा रहा है अतः यह प्रश्नवाचक सर्वनाम है।

7. निजवाचक सर्वनाम

जब किसी वाक्य में वक्ता द्वारा किसी वस्तु इत्यादि को अपना दर्शाया या खुद का दिखाया जाता है, तब वहां वक्ता द्वारा निजवाचक सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है। निज का मतलब होता है निजी, इसलिए इसका इस्तेमाल खुद का दिखाने के लिए होता है। स्वयं, अपना, खुद का इत्यादि निजवाचक सर्वनाम है।

  • मेरी साइकिल कभी-कभी अपने आप चलती है।
  • मैं अपने कपड़े खुद ही धोऊंगा।
  • मैं अपनी काबिलियत से करूंगा।

ऊपर के उदाहरणों में अपने आप, अपने, अपनी इत्यादि से वक्ता किसी वस्तु इत्यादि को अपना दर्शा रहा है इसीलिए यह निजवाचक सर्वनाम है।

Conclusion

आज इस आर्टिकल में हमने व्याकरण के बहुत ही महत्वपूर्ण विषय सर्वनाम के बारे में जाना इस आर्टिकल में हमने सर्वनाम के कितने भेद होते हैं? (Sarvnam ke kitne bhed hote hain?) सर्वनाम कितने प्रकार के होते हैं? (Sarvnam kitne prakar ke hote hain?) सर्वनाम क्या है? इस आर्टिकल में हम सर्वनाम के कितने भेद होते हैं? और सर्वनाम कितने प्रकार के होते हैं? इसके बारे में इस आर्टिकल में आपको उदाहरण के साथ विस्तार से बताएं।

अगर इस आर्टिकल को पढ़कर आपको सर्वनाम कितने प्रकार के होते हैं और सर्वनाम के कितने भेद होते हैं इसके बारे में सारी जानकारी मिली है तो हमारा आर्टिकल को शेयर जरुर करें और हमारे आर्टिकल के संबंधित कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *