सॉफ्टवेर (Software) इंजीनियर की सैलरी कितनी होती है? | Software Engineer ki salary kitni hoti hai?

आज इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि Software engineer ki salary kitni hoti hai? software engineer ki salary kya hai? सॉफ्टवेर इंजीनियर को कितनी सैलरी मिलती है? इसके बारे में विस्तार से जानेंगे।

आज के समय में इंजीनियरिंग सबसे मन पसंदीदा कोर्स में से एक है और उसमें भी सबसे ज्यादा बच्चे सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं। सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने की इच्छा अधिकतर छात्र को होती है क्योंकि software engineering में इन्हें टेक्नोलॉजी से जुड़े रहना होता है और इसमें बहुत अच्छे अवसर प्राप्त होते हैं।

Software Engineer ki salary

दोस्त अगर आप भी कंप्यूटर एवं टेक्नोलॉजी यानी तकनीक के क्षेत्र में रुचि रखते हैं एवं आगे चलकर एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने की इच्छा रखते हैं तो आपके मन में भी यह सवाल आता होगा की एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर कितना कमाता है?

अधिकतर बच्चे जो भी सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग करना चाहते हैं वह इस क्षेत्र में इसलिए जाना चाहते हैं क्योंकि इसमें तनख्वाह अच्छी होती है तो आज इस आर्टिकल में हम software engineer ki salary kitni hoti hai, software engineer को कितना सैलरी मिलता है इसके बारे में विस्तार से जानेंगे।

अगर आप भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी के बारे में जानना चाहते हैं और सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग क्यों करें इसके बारे में जानना चाहते हैं हमारे इस आर्टिकल को पूरा ध्यान से पढ़ें इसमें आपको इसके संबंधित बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारियां मिलेंगी।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलेरी कितनी होती है?(Salary of Software engineer)

अगर बात करें Software engineer ki salary kitni hoti hai ? यह अलग-अलग कंपनियों और संस्थाओं पर निर्भर करती है? इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप इस क्षेत्र में किन-किन टेक्नोलॉजी और किन-किन कंप्यूटर लैंग्वेज के बारे में जानते हैं।

औसतन एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलेरी ₹20000 से लेकर ₹40000 तक होती है अगर आप किसी मल्टीनेशनल कंपनी से जुड़े हैं या आप किसी बहुत बड़ी संस्था से जुड़े तो आपकी सैलरी ₹100000 से भी ज्यादा हो सकती है सॉफ्टवेयर इंजीनियर के चले पूरी तरह उनके संस्था और सॉफ्टवेयर इंजीनियर के हुनर पर निर्भर करती है

एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी कितनी होगी यह कई बातों पर निर्भर करता है। सबसे पहले यह इस बात पर निर्भर करेगा कि आपने किस प्रकार सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है मतलब ऐसे कुछ अलग अलग कोर्स है जिन्हें करके आप एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बन सकते है, अगर आपने दसवीं के बाद ही सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में जाने का सोचा तो आप दसवीं के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कर सकते हैं।

इसकी अवधि 3 वर्ष की होती है। इसे complete करने के बाद आपके पास diploma degree होगी। इसके अलावा अगर आप सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में under graduation करना चाहते हैं तो आप बीटेक(b.tech) कर सकते हैं लेकिन b.tech को आप 12वीं के बाद ही कर सकते हैं साथ ही इसके लिए ट्वेल्थ क्लास में पीसीएम(PCM) विषयों में पास होना जरूरी है साथ ही अगर आप एडीशनल सब्जेक्ट में कंप्यूटर साइंस एंड इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी करते हैं तो वह आपके लिए हर फायदेमंद होगा।

एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलेरी कभी-कभी उसके कॉलेज के ऊपर भी निर्भर करती है अगर आप किसी बड़े और प्रसिद्ध कॉलेज से कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग किए हैं तो आपकी सैलरी अच्छी होगी क्योंकि उन जगहों पर आपको अच्छे अवसर प्राप्त होते हैं इन कॉलेज में बहुत ही बड़ी बड़ी कंपनियां आती है हाल ही में आया iit से software engineer को 1.5 करोड़ का पैकेज मिला है।

12वीं उत्तीर्ण करने के बाद आपको एंट्रेंस एग्जाम क्वालीफाई करना होता है जिसके बाद उस एंट्रेंस एग्जाम के परिणाम के आधार पर आपको किसी इंजीनियरिंग कॉलेज में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के ब्रांच में प्रवेश मिलता है। बीटेक (b.tech)की अवधि 4 वर्ष की होती है एवं उसके बाद आप m-tech करके सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में मास्टर्स कर सकते हैं। इसके अलावा और 12वीं के बाद BCA कोर्स को भी कर सकती यह भी एक undergraduation degree है इसमें आपको computer applications में बैचलर डिग्री प्राप्त होती है।

इन सभी बातों को अलग रखकर अगर बात करे  एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के औसतन वेतन की तो सॉफ्टवेयर इंजीनियर को शुरुआत में कम से कम 20 हजार से 40000 तक की जॉब मिलती है। दिल्ली बेंगलुरु एवं उन जैसे कुछ अन्य बड़े शहरों में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की औसतन सैलरी 45000 प्रतिमाह तक होती है।

सही ज्ञान और अनुभव होने पर और भी बड़े पैकेज सॉफ्टवेयर इंजीनियर को ऑफर किए जाते हैं। कुछ आईटी कंपनियां जिनमें CTS,TCS, WIPRO आदि जैसी कंपनियों का नाम आता है, वे बिना किसी अनुभव वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर को भी सालाना ढाई लाख तक वेतन देती है।

Experienced Software engineer salary

सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलेरी हर जगह एक समान नहीं होती, कई बार बीटेक छात्रों को शुरुआती महीनों में 10 से 15000 तक की जॉब मिलती है, परंतु जैसे-जैसे उनका उस क्षेत्र में अनुभव बढ़ता है उनकी तनख्वाह भी 50000 से 100000 प्रतिमाह तक हो सकती है।

एक अनुभवी सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलेरी किसी अच्छे और बड़े आईटी कंपनी में काम करने पर 70 से 80 लाख प्रति वर्ष तक भी जा सकती है। कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार गूगल जैसी बड़ी कंपनियों में काम करने वाले अनुभवी सॉफ्टवेयर इंजीनियर स्कोर 1.2 करोड़ तक का सालाना वेतन मिलता है।

साथ ही अनुभव बढ़ने पर  वे 15 लाख तक का वेतन भी पाते हैं। इसके अलावा MICROSOFT, GOOGLE, DELL , SAP आदि जैसी कंपनियां 8 लाख लाख तक का वार्षिक वेतन ऑफर करती है, एवं 3 साल का अनुभव होने पर यह वेतन 2500000 वार्षिक तक भी जा सकता है।

Freelancer ki salary kitni hoti hai?

इसके अलावा सॉफ्टवेयर इंजीनियर घर बैठे  ही ग्राहकों के लिए सॉफ्टवेयर डेवलप कर लाखों रुपए तक कमा सकते हैं इसे फ्रीलांस जॉब(freelance job) कहा जाता है। मार्केट में FEVRR, FREELANCING आदि जैसे और भी कई FREELANCE वेबसाइट्स उपलब्ध है, जिन पर आप FREELANCER जॉब कर सकते हैं। एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलेरी हर जगह एक समान नहीं होती अगर आपको किसी अच्छे कंपनी में अच्छे पोस्ट पर सॉफ्टवेयर इंजीनियर का काम मिलता है तो सैलरी बहुत अच्छी हो सकती है।

Software Engineering kyu kare?

आखिरकार software engineering kyu kare यह सवाल भी छात्र के मन में होता है। सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग करने के अनेकों फायदे हैं जैसे कि

  • High paid job
  • Freelancing
  • Start up
  • jobs in multinational companies
  • cyber security

दोस्तों आज का युग computer और technology का युग है। वर्तमान में कंप्यूटर और उससे संबंधित टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल हर क्षेत्र में बढ़ा है। आज के समय में हम अपने रोजमर्रा के जीवन में बहुत सी ऐसी चीजें अपने जीवन को आसान बनाने के लिए इस्तेमाल करते हैं जो बिना तकनीक के संभव नहीं है।

मोबाइल, स्मार्टफोंस,  मॉडर्न टेलिविजन से लेकर ऐसी अनेकों चीजें हैं। मोबाइल एवं कंप्यूटर जैसे अन्य उपकरण किसी ना किसी तरह के सॉफ्टवेयर पर चलते हैं। अत: इन जैसे उपकरणों के इस्तेमाल के लिए सॉफ्टवेयर बनाने की आवश्यकता पड़ती है।आज के समय में बहुत से छात्र जो technology और उससे संबंधित क्षेत्रों में रुचि रखते हैं जो software engineering के क्षेत्र में अपना करियर बनाने की सोचते हैं।

वे सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग करके एक software engineer बनना चाहते हैं। युवाओं के बीच इंजीनियरिंग के क्षेत्र में सॉफ्टवेयर इंजीनियर एक लोकप्रिय करियर ऑप्शन है। इसमें future में बहुत scope है क्योंकि computer, feature phones, smart watch, smartphone आदि जैसे जितने भी  गैजेट्स हम इस्तेमाल करते हैं वे सॉफ्टवेयर की मदद से ही चलते हैं अतः उन्हें बनाने वाली कंपनियां अच्छे से अच्छे सॉफ्टवेयर इंजीनियर की तलाश में रहती है एवं योग्य और अनुभवी सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लाखों का पैकेज तक ऑफर करती है।

दोस्तों अगर बात करें सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग  के कोर्स की तो सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग एक प्रकार का कंप्यूटर से संबंधित इंजीनियरिंग कोर्स है जिसमें विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर डिजाइन करना यानी उन्हें बनाना, सॉफ्टवेयर का डेवलपमेंट करना सॉफ्टवेयर को मेंटेन रखना एवं सॉफ्टवेयर टेस्टिंग जैसी चीजें सिखाई जाती है। आपने कंप्यूटर में एचटीएमएल(HTML) जावा(JAVA) एवं सी प्लस प्लस ( C++), Python, React Native, JScript, AWS इनके बारे में सुना होगा। इन्हें computer language भी कहा जाता है एवं इसी प्रकार के कंप्यूटर लैंग्वेजेस के द्वारा कोडिंग यानी प्रोग्रामिंग करके विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर तैयार किए जाते हैं। सॉफ्टवेयर बनाने उसे प्रोग्रामिंग करने के लिए computer language होता है।

Conclusion

इस पोस्ट में हमने software engineer ki salary kitni hoti hai, software engineer को कितना सैलरी मिलता है इसके बारे में जाने हैं।इस आर्टिकल में हमने जाने की सॉफ्टवेर इंजीनियरिंग करने के बाद आपको कितनी सैलरी मिलती है?आपको सॉफ्टवेर इंजीनियरिंग क्यों करनी चाहिए?सॉफ्टवेर इंजीनियरिंग में क्या पढाया जाता है?इन सबके बारे में विस्तार से जाना है।मुझे उम्मीद है की इस आर्टिकल में आपको सॉफ्टवेर इंजिनियर की सैलरी कितनी है इसके बारे में अच्छी जानकारी मिली होगी अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया है तो इसे शेयर जरुर करे और आर्टिकल के सबंध में कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके जरुर बताएं।

धन्यवाद

1 thought on “सॉफ्टवेर (Software) इंजीनियर की सैलरी कितनी होती है? | Software Engineer ki salary kitni hoti hai?”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *