मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? | Monitor kitne prakar ke hote hain?

आज इस आर्टिकल में आप मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? (Monitor kitne prakar ke hote hain?) कितने तरह के मॉनिटर होते हैं?, मॉनिटर के प्रकार (monitor ke prakar) इसके बारे में विस्तार से पढेंगे।

दोस्तों आज के समय में हमारी दुनिया डिजिटल होती जा रही है।  चाहे वह किसी भी प्रकार का काम हो, हर क्षेत्र में कंप्यूटर इत्यादि का इस्तेमाल बढ़ रहा है। और कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण भाग मॉनिटर होता है। यह बात सभी को पता है कि कंप्यूटर पर जो भी काम होता है उसे किसी मॉनिटर पर देखकर ही किया जाता है यानी कहा जा सकता है कि बिना मॉनिटर के एक पूरा कंप्यूटर संभव नहीं है।

जिन्होंने कंप्यूटर का इस्तेमाल किया हैं, उन्होंने देखा होगा कि पहले के समय में कंप्यूटर के साथ छोटी डिस्प्ले के साथ बड़े और मोटे मॉनिटर आते थे, परंतु समय के साथ मॉनिटर मोटाई में भी कम होने लगे, डिस्प्ले साइज भी बड़ा और डिस्पले क्वालिटी भी अच्छी होने लगी।

आज इस लेख में हम मॉनिटर के बारे में ही बनेंगे, और मुख्य तौर से मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? (monitor kitne prakar ke hote hain?) सभी मॉनिटर के प्रकार के बारे में विस्तार से जानेंगे। अगर आप मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? और मॉनिटर के सभी प्रकार के बारे में जानना चाहते हैं हमारे साथी के को पूरा ध्यान से पढ़ें।

मॉनिटर क्या है? (Monitor kya hai)

मॉनिटर का मतलब देखना होता है यानी कि जिस पर हम देखते हैं वही मॉनिटर है। कंप्यूटर में जिसमें देखकर आप काम करते हैं वहीं मॉनिटर  है। यह कंप्यूटर का एक output device है, इसे visual display unit (VDU) भी कहा जाता है।

इसका काम होता है कंप्यूटर द्वारा दिए गए आउटपुट डाटा को दिखाना जिसमें फोटो वीडियो समेत अन्य जानकारी भी हो सकती है। मॉनिटर पिक्सेल की सहायता से कुछ भी दिखाता है। यानी मॉनिटर के डिस्प्ले में जितने ज्यादा पिक्सल्स होंगे वह उतनी ही अच्छी तरीके से कुछ भी दिखा पाएगा।

मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? (Monitor kitne prakar ke hote hain?)

मॉनिटर के चार प्रकार होते हैं है, जो निम्नलिखित है

  • CRT (cathode ray tube) मॉनीटर
  • LCD (liquid crystal display) मॉनिटर
  • LED (light emitting diode) मॉनीटर
  • Flat panel मॉनिटर

1.CRT Monitor क्या है?

आज के समय में CRT Monitor का उपयोग लगभग ना के बराबर किया जाता है। पहले के समय में कंप्यूटर के साथ जो बड़े और मोटे मॉनिटर आते थे वही CRT Monitor होते थे। इस तरह के टीवी हमारे घर में हुआ करते थे यह मॉनिटर भी उसी की तरह थे जिसमें एक cathode ray tube का इस्तेमाल कुछ डिस्प्ले करने के लिए होता था, और यह cathode ray tube ही इसका मेन हिस्सा था।

इस cathode ray tube के अंदर cathode ray और electron beam का इस्तेमाल होता है। Electron beam electronic grid से पास हो कर मॉनिटर के स्क्रीन से टकराती है जिससे स्क्रीन के पिक्सल्स चमकने लगते हैं और स्क्रीन पर कोई फोटो या वीडियो दिखाते हैं।

2.LCD Monitor क्या है?

LCD का पूरा नाम liquid crystal display होता है। CRT मॉनिटर के बाद LCD Monitor ही प्रचलन में आए थे। सीआरटी मॉनिटर की तुलना में LCD Monitor के कई फायदे हैं। बड़े और मोटे भारी भरकम सीआरटी मॉनिटर की तुलना में, एलसीडी पतले और हल्के होते हैं। यह CRT की तुलना में बिजली की खपत भी कम करते हैं। LCD Monitor एक फ्लैट सर्फेस पर liquid crystal के माध्यम से कुछ भी दिखाने का काम करता है।

इसके इस्तेमाल से यह कम जगह लेता है जिस कारण यह monitor पतला होता है, कम ऊर्जा भी लेता है एवं CRT की तुलना में energy efficient भी होता है। LCD display का इस्तेमाल पहले लैपटॉप में किया जाता था, लेकिन आज एलसीडी मॉनिटर डेस्कटॉप कंप्यूटर के लिए भी इस्तेमाल होते हैं।

3.LED Monitor क्या है?

LED का पूरा नाम light emitting diode होता है। आज के समय में ज्यादातर LED मॉनिटर का इस्तेमाल ही किया जाता है। CRT और LCD दोनों ही मॉनिटर की तुलना में LED Monitor सबसे कम बिजली का इस्तेमाल करते हैं। LED display तकनीक में light के source के रूप में एलईडी पैनल का इस्तेमाल किया जाता है। आज के समय में ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, स्क्रीन, इत्यादि में एलईडी डिस्प्ले का इस्तेमाल ही होता है।

LED Monitor अन्य दोनों की तुलना में आंखो पर कम प्रभाव डालते हैं, ये higher contrast वाले फोटो और वीडियोस दिखाते हैं। पर्यावरण पर भी इनका नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है, LCD की तुलना में यह पतले और अधिक टिकाऊ भी होते हैं। आज के समय में एक अच्छे और  high end मॉनिटर की कीमत थोड़ी ज्यादा होती है।

4.Flat panel Monitor क्या है?

असल में LCD और LED  दोनों ही फ्लैट पैनल मॉनिटर के अंतर्गत ही आते हैं। Flat panel Monitor में गैसों तथा chemicals को एक plate में रखकर displays में उसका उपयोग किया जाता है, जिस कारण यह एक सपाट और पतली स्क्रीन देता है। Flat panel monitor बिजली की काफी कम खपत करती है एवं वजन में भी काफी हल्की होती है। LCD और LED में इस बात से अंतर समझा जा सकता है कि  LCD display प्रकाश को absorb करती है, और LED प्रकाश को reflect करती है।

रंगो के आधार पर मॉनिटर के प्रकार (Types of monitor according to color production)

प्रदर्शित रंगों के आधार पर यह तीन प्रकार के होते हैं

1. Monochrome Monitor क्या है?

Mono का मतलब होता है एक तथा chrome का मतलब होता है color यानी रंग, इसीलिए उस तरह के मॉनिटर को Monochrome Monitor कहा जाता है जो सिर्फ एक ही रंग दिखाता है। आसान भाषा में, black and white मॉनिटर को ही Monochrome Monitor कहते हैं। इसे ही सिंगल कलर डिस्प्ले भी कहा जाता है पहले के समय में जब कलर डिस्प्ले नहीं थी तब इसी मॉनिटर का इस्तेमाल किया जाता था। 1960 से 1980 तक ज्यादातर ऐसे मॉनिटर का ही इस्तेमाल होता था।

2. Grayscale Monitor क्या है?

यह मॉनिटर मोनोक्रोम मॉनिटर से ज्यादा अलग नहीं होते थे। मोनोक्रोम मॉनिटर की ही तरह Grayscale Monitor डिस्प्ले को ग्रे शेड(grey shades) में प्रदर्शित करता है। पहले लैपटॉप इत्यादि जैसे हेंडी कंप्यूटर्स में Grayscale Monitor का इस्तेमाल किया जाता था।

3. Colour Monitor क्या है?

आज के समय में हम जिन मॉनिटर का इस्तेमाल करते हैं वह बहुत सारे रंगों को प्रदर्शित करने में सक्षम है। Colour monitor तीन अलग-अलग फॉस्फोर का उपयोग करके आरजीबी RGB यानी red blue green colour model का इस्तेमाल करते हैं। इन तीनों रंगों के इस्तेमाल से Colour Monitor बहुत सारे रंग दिखा सकते हैं। जाहिर तौर पर, आज के समय में हम जिन मॉनिटर का इस्तेमाल करते हैं, वे सारे के सारे कलर मॉनिटर ही होते हैं।

Conclusion

आज इस आर्टिकल में आपने मॉनिटर कितने प्रकार होते हैं? (Monitor kitne prakar ke hote hain?) मॉनिटर क्या होता है? मॉनिटर के प्रकार और मॉनिटर कितने तरह के होते हैं? इन सब के बारे में जाना है। इस आर्टिकल में मैंने आपको मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? और मॉनिटर के सारे प्रकार के बारे में विस्तार से बताया है। इस आर्टिकल में LCD Monitor क्या है?, LED Monitor क्या है?, Monochrome monitors क्या है?, और Grayscale Monitors क्या है? के बारे में विस्तार से जाना है मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़कर मॉनिटर के प्रकार के बारे में सारी जानकारी मिली होगी। अगर आपको इस आर्टिकल से अच्छी जानकारी मिली है तो इसे शेयर जरुर करें और इसके सम्बंधित कोई रायदेना चाहते हैं तो आप हमे कमेंट करके जरुर बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Game खेलकर पैसे कैसे कमाए