YouTube किस देश की कंपनी है? | YouTube kis desh ki company hai

आज हम जानेंगे कि Youtube किस देश की कंपनी है? (YouTube kis desh ki company hai?) यूट्यूब का मालिक कौन है? (YouTube ka malik kaun hai), यूट्यूब कहां की कंपनी है? (YouTube kaha ki company hai?)

मूल रूप से यूट्यूब (YouTube) ‘अमेरिका ‘ की कंपनी है।

YouTube एक बहुत ही बड़ी कंपनी है जिसकी पहुंच पूरी दुनिया भर के लोगों तक है। हमारे देश में भी रोजाना ही यूट्यूब  का इस्तेमाल अलग-अलग प्रकार के वीडियोज को देखने के लिए बड़ी संख्या में किया जाता है। ऐसे में कई बार लोगों के मन में यह सवाल आता है कि आखिर यूट्यूब मूल रूप से किस देश की कंपनी है? (YouTube kis desh ka hai) आम लोग यूट्यूब पर इस्तेमाल अलग-अलग प्रकार की जानकारी लेने के लिए करते हैं। ऐसे में यूट्यूब को किस देश में बनाया गया था, (YouTube kis desh ki company hai) और इसके मालिक कौन है? (YouTube ka malik kaun hai) आदि जैसे सवाल लोग जानना चाहते हैं।

आज इस लेख में हम मुख्यतः इसी बात पर चर्चा करेंगे  कि यूट्यूब किस देश की कंपनी है? (YouTube kis desh ki company hai) इसके मालिक कौन हैं और यूट्यूब से संबंधित अन्य कुछ बातों को जानेंगे –

Youtube किस देश की कंपनी है? (YouTube kis desh ki company hai)

मूल रूप से यूट्यूब अमेरिका देश की कंपनी है। इसे paypal के तीन कर्मचारियों द्वारा मिलकर बनाया गया था। यह तीनों कर्मचारी अमेरिका के ही रहने वाले थे। YouTube एक अमेरिका का वीडियो देखने वाला प्लेटफार्म है जिससे पूरी दुनिया भर के लोगों द्वारा वीडियोस देखने और यूट्यूब में वीडियो अपलोड करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

यह बहुत ही बड़ा प्लेटफार्म है, इस कंपनी की वैल्यू billions में है, लेकिन कुछ पलों को लोगों को यह बात पता नहीं हो सकती है की यूट्यूब को आज के समय में गूगल (google) own करता है, यानी यूट्यूब का मालिकाना हक गूगल के पास है और क्योंकि गूगल भी एक अमेरिकन कंपनी ही है इसीलिए यूट्यूब भी अमेरिका का ही है।

YouTube का हेड क्वार्टर यानी मुख्यालय कैलिफोर्निया (California) के सन ब्रूनो (San Bruno) में स्थित है, जो अमेरिका में ही है। यहीं से यूट्यूब के द्वारा वैश्विक स्तर पर किए जाने वाले कार्यों  की देखरेख होती है।

Youtube का मालिक कौन है? (YouTube ka malik kaun hai)

इसका मालिक कोई और नहीं  बल्कि गूगल ही है। यूट्यूब को गूगल की एक subsidiary company की तरह  जाना चाहता है या इसे गूगल की डॉटर कंपनी (daughter company) भी कहते हैं।

यूट्यूब को इनके संस्थापकों द्वारा नवंबर 2005 को ऑफीशियली लॉन्च किया गया था। इसके लांच होने के बाद इस साइट को एक ही दिन में मिलियंस में views मिलने लगे। इसे एक दिन में 8 मिलियन से ज्यादा देखा जाने लगा जिससे जुलाई 2006 तक यूट्यूब  ने काफी बढ़िया ग्रोथ दिखाया। बढ़ते समय के साथ यूट्यूब में 1 दिन में 100 मिलियन तक  व्यूज आने लगे इसके साथ ही इस साइट पर प्रतिदिन यूजर्स द्वारा 65000 से भी ज्यादा वीडियोस अपलोड किए जाने लगे।

क्या आप जानते हैं:-

यूट्यूब कहां की कंपनी है? (Youtube kaha ki company hai?)

YouTube भी एक संयुक्त राज्य अमेरिका की कंपनी है। यूट्यूब का हेड क्वार्टर सन ब्रूनो कैलिफोर्निया राज्य में है। आज के समय में हम अपनी अधिकतर जानकारी यूट्यूब के माध्यम से भी जुड़ आते हैं क्योंकि यूट्यूब के माध्यम से हमें जानकारी वीडियो के द्वारा मिलती है जिससे कि हमें उस जानकारी को समझने में भी आसानी होती और वह उस जानकारी को interesting भी बनाता है।

Google ने YouTube को कब खरीदा?

YouTube दुनिया भर के लोगों के बीच काफी ज्यादा पॉपुलर हो रहा था और इसके पॉपुलर की और बढ़ते ग्रोथ को देखकर दिग्गज कंपनी गूगल के द्वारा अक्टूबर 2006 में इसे खरीदने का फैसला किया गया।

गूगल ने यूट्यूब को 1.65 बिलीयन डॉलर ($1.6 billion) में खरीदने की घोषणा की। यूट्यूब और गूगल के बीच नवंबर 2006 को यह डील फाइनल हो गई और गूगल के द्वारा YouTube को खरीद लिया गया और तब से यूट्यूब का मालिकाना हक गूगल के पास है।

भले ही आज यूट्यूब का मालिक गूगल हो लेकिन यूट्यूब को गूगल के द्वारा नहीं बनाया गया था। यूट्यूब के डेवलपर गूगल के इंजीनियर नहीं बल्कि कोई और थे।

Paypal के 3 कर्मचारियों द्वारा यूट्यूब को डेवलप किया गया था। इन तीन कर्मचारियों का नाम चाड हर्ले (Chad Hurley), स्टीव चेन (Steve chen) और जावेद करीम (Jawed Karim) है। इन तीनों को ही यूट्यूब के संस्थापक के तौर पर जाना जाता है।

वर्तमान में यूट्यूब की सी ओ एन इ चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर के तौर पर Susan Wojcicki कार्य कर रही है, जो यूट्यूब के डेवलपमेंट में अपना योगदान दे रही है। किसी भी यूट्यूब क्रिएटर को यूट्यूब के तरफ से इन्हीं के द्वारा लेटर्स लिखे जाते हैं।

क्या आप जानते हैं?

Youtube क्या है?

हम सभी को यह बात पता है की यूट्यूब एक वीडियो देखने वाला प्लेटफार्म है। यूट्यूब के रजिस्टर्ड सदस्य इसमें वीडियो देखने के साथ-साथ अपना वीडियो अपलोड भी कर सकते हैं।

यूट्यूब अपने रजिस्टर्ड मेंबर्स को वीडियो देखने, वीडियो अपलोड करने, किसी वीडियो को शेयर करने, अपने पसंदीदा वीडियो को जोड़ने, किसी वीडियो को रिपोर्ट करने, किसी वीडियो पर टिप्पणी करने, और दूसरे सदस्यों के चैनल की सदस्यता लेने यानी कि उसे दूसरे के चैनल को सब्सक्राइब करने की सुविधा देता है।

यूट्यूब में सदस्य यानी इंडिविजुअल क्रिएटर्स से लेकर कई बड़े कंपनियों के चैनल तक मौजूद रहते हैं। यह सभी अपने-अपने चैनल्स में अपने वीडियोस अपलोड कर सकते हैं जिन्हें लोग देख सकते हैं।

यूट्यूब के वीडियोस में मुख्य रूप से कोई वीडियो क्लिप, कोई टीवी कार्यक्रम, कोई संगीत यानी म्यूजिक वीडियो, फिल्मों के ट्रेलर या एंटरटेनमेंट के लिए बनाया गया कोई वीडियो, लाइव स्ट्रीम इत्यादि शामिल है।

आज के समय में आपको यूट्यूब में हर प्रकार की वीडियोस देखने को मिल जाएंगी। Creators इसमें अपना vlog बनाकर भी डालते हैं। गैर पंजीकृत यानी अनरजिस्टर्ड सदस्य यूट्यूब पर केवल वीडियो देख सकते हैं वीडियो अपलोड करने के लिए उन्हें रजिस्टर करना पड़ता है पंजीकृत सदस्य असीमित वीडियोस अपलोड कर सकते हैं।

क्रिएटर्स के द्वारा यूट्यूब पर जो वीडियो अपलोड किए जाते हैं उनका यूट्यूब कम्युनिटी गाइडलाइंस को फॉलो करना जरूरी होता है। ऐसे कुछ वीडियोस जो माल हानि, नग्नता, उत्पीड़न या अपराध से संबंधित हो उन्हें age restrict कर दिया जाता है जिससे सिर्फ 18 साल की उम्र से अधिक के viewers ही इन वीडियोस को देख सकते हैं।

YouTube पैसे कैसे कमाती हैं?

YouTube एक बिल्कुल ही मुफ्त प्लेटफार्म है यानी इसमें वीडियोस देखने के लिए आपको किसी प्रकार का कोई पैसा नहीं देना होता है यदि आप सिर्फ इंटरनेट से जुड़े हैं तो आप यूट्यूब में वीडियो देख सकते हैं।

ऐसे में जहां यह एक free प्लेटफार्म है, यूट्यूब अपनी कमाई गूगल ऐडसेंस से करता है जिसमें वेबसाइट के सामग्री और दर्शक के हिसाब से विज्ञापन दिखाए जाते हैं। यूट्यूब पर उपलब्ध अधिकांश वीडियोस मुफ्त में देखे जा सकते हैं जबकि कुछ वीडियोस को देखने के लिए पैसे भी देने पड़ते हैं, इनमें आप किसी फिल्म को बाय (buy) या रेंट (rent) कर सकते हैं जिसके लिए आपको पैसा देना होता है।

इसका मतलब है कि यूट्यूब देखते समय आपको विज्ञापन देखना पड़ता है। जब भी आप यूट्यूब में कोई वीडियो चलाते हैं तो संभव है कि वीडियो से पहले आपको एक ऐड देखना पड़े। ऐसे में आप यूट्यूब प्रीमियम की मेंबरशिप ले सकते हैं जिसके लिए आपको पैसा देना होगा जिसमें आप बिना कोई विज्ञापन देखें सारे वीडियोस देख सकते हैं।

YouTube premium

इसके साथ ही यूट्यूब प्रीमियम के मेंबर्स के लिए अलग से कुछ वीडियोस भी उपलब्ध होती है जिन्हें  आम लोग नहीं देख सकते हैं। YouTube premium का फ्री ट्रायल भी उपलब्ध होता है।

यूट्यूब को वीडियो देखने वाला वीडियो अपलोड करने के लिए जाना जाता है, इसकी शुरुआत स्टार्टअप के रूप में हुई थी।यूट्यूब पर सबसे पहला वीडियो अप्रैल 2005 को ही अपलोड किया गया था। यूट्यूब के सबसे पहले वीडियो को me at the zoo के नाम से अपलोड किया गया था जिसमें यूट्यूब के को फाउंडर जावेद करीम(Jawed Karim), सन डियागो जू(San Diego zoo)   दिखाई देते हैं।

Youtube में करियर

दोस्तों आज के समय में हमारे देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में यूट्यूब को एक बेहतरीन करियर ऑप्शंस के रूप में देखा जाता है। आज के समय में यदि आप एक सफल यूट्यूब पर बन जाते हैं तो आपका भविष्य काफी सुखद हो सकता है।

यूट्यूब पर कुछ बड़े क्रिएटर्स सिर्फ यूट्यूब से ही लाखों करोड़ों की कमाई कर लेते हैं। Creators यूट्यूब में अपना चैनल बनाकर उसमें अपनी रुचि और विशेषता के अनुसार वीडियोस बनाकर अपलोड करते हैं, जिन्हें viewers द्वारा देखा जाता है। यूट्यूब में भी क्रिएटर्स के लाखों करोड़ों में सब्सक्राइबर्स बनते हैं।

Conclusion

इस आर्टिकल में हमने यूट्यूब किस देश की कंपनी है?, (youtube kis desh ki company hai?) यूट्यूब कहां की कंपनी है?, (youtube kaha ki company hai?), यूट्यूब के मालिक कौन है? (youtube ke malik kaun hai?) और यूट्यूब कौन सी सर्विस प्रदान कर आती हैं इसके बारे में हमने जाना है। मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़कर आपको यूट्यूब किस देश की कंपनी है यूट्यूब के मालिक कौन है इसके बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Online पैसे कैसे कमाए 40,000 महीना