दुबई किस देश में है? | Dubai kis Desh mein hai?

Advertisements

आज के इस आर्टिकल में हम दुबई किस देश में है? (Dubai kis Desh mein hai?) दुबई कहां है दुबई में कौन से शासन व्यवस्था है इन सब के बारे में विस्तार से जानेंगे

Advertisements

Dubai ‘United Arab Emirates’ में है। यह ‘संयुक्त अरब अमीरात’ का एक शहर है।

दोस्तों आज के समय में जब विकसित और मॉडर्न शहर की बात आती है तो उसमें दुबई का एक अहम स्थान रहता है। दुबई पूरी दुनिया के सबसे मॉडर्न महानगरों में से है। आपने भी कभी किसी  फिल्म या टीवी पर इस शहर के कुछ दृश्य जरूर देखे होंगे। यह शहर अपनी गजब की खूबसूरती के लिए जाना जाता है।

दुनिया की सबसे बड़ी या यूं कहें सबसे ऊंची बिल्डिंग बुर्ज खलीफा भी दुबई में ही है। दुबई शहर दुनिया की बेहतरीन वित्तीय शहरों में अपना स्थान रखता है। यह शहर एक अंतरराष्ट्रीय वित्तीय केंद्र है, इसके साथ ही खरीद की क्षमता में दुबई दुनिया के सबसे अमीर शहरों में भी आता है।

आज हम जानेंगे?

Dubai किस देश में है

आज के समय में दुबई पूरी दुनिया भर के सबसे मॉडर्न और डिवेलप सिटीज में से एक है। दुबई संयुक्त अरब अमीरात का एक महानगर है। दुबई संयुक्त अरब अमीरात की 7 अमीरातों में से एक है। यूनाइटेड अरब एमिरेट्स के 7 अमीरात अबू धाबी, दुबई, शारजाह रास अल खेमा, अजमान, फुजाइरा तथा उमन अल कुवैन हैं।

अमीरात का मतलब एक राज्य  की तरह होता है। उदाहरण के लिए जिस प्रकार यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका नार्थ अमेरिका के कुछ स्टेट्स यानी भागो को मिलकर बना है उसी प्रकार यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ एमिरेट्स सात अमीरातो से मिलकर बना है। अमीरात को एक राज्य या सल्तनत की तरह समझा जा सकता है जिस पर वंशानुगत किसी परिवार का शासन रहता है इसीलिए आपने कहीं सुना होगा कि दुबई के प्रिंस यानी राजकुमार होते हैं।

दुबई  ने कई बड़ी और नई निर्माण परियोजनाओं और खेलों का आयोजन करके दुनिया भर के देशों का ध्यान अपनी और आकर्षित किया है। आकर्षण के साथ-साथ दुबई का एक वैश्विक शहर और व्यापार केंद्र के रूप में उभरने की वजह से यहां श्रम और मानव अधिकारों से संबंधित मुद्दे ऊभरे हैं।

दुबई का क्षेत्रफल और जनसंख्या

Advertisements

क्षेत्रफल और जनसंख्या में दुबई क्षेत्रफल में यूनाइटेड अरब एमिरेट्स के का दूसरा सबसे बड़ा अमीरात है। दुबई का कुल क्षेत्रफल 4114 वर्ग किलोमीटर (1588 वर्ग मील)  का है। साल 2013 के अनुसार यहां की कुल जनसंख्या 2106177 के करीब की दर्ज की गई थी। आज के समय में इसकी आबादी 31 लाख से अधिक की है। दुबई में बड़ी संख्या में हिंदू, मुस्लिम, सिख, बौद्ध और अन्य धर्म के लोग रहते हैं।

जनसंख्या का ज्यादातर भाग अरबी बोलता है। दुबई की आधिकारिक भाषा अरबी है, लेकिन उर्दू, फारसी मलयालम, हिंदी, बंगाली, तमिल, चीनी  सहित अन्य कई भाषाएं बोली जाती हैं। अंग्रेजी शहर की सामान्य भाषा के तौर पर बड़ी संख्या में निवासियों द्वारा बोली जाती है।

आज के समय में दुबई मध्य पूर्व का एक महत्वपूर्ण वैश्विक नगर तथा एक महत्वपूर्ण व्यापार केंद्र के रूप में उभरा है। दुबई नगर पालिका को कभी-कभी अमीरात से अलग बताने के लिए दुबई राज्य भी बुलाया जाता है। UAE यानी United Arab Emirates के सातों अमीरातो में से दुबई की जनसंख्या सबसे ज्यादा है, और अबू धाबी के बाद क्षेत्रफल में यह दूसरी सबसे बड़ी अमीरात है। संयुक्त अरब अमीरात के सात अमीरतो में से सिर्फ दुबई और अबू धाबी ही दो अमीरात है, जिनके पास देश के विधायिका के अनुसार राष्ट्रीय महत्व के जरूरी मामलों पर प्रत्यादेश शक्ति का अधिकार है।

दुबई की भौगोलिक स्थिति

दुबई महानगर संयुक्त अरब अमीरात के फारस की खाड़ी के तट पर स्थित है जो समुद्र तल से लगभग 16 मीटर यानी 52 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। दुबई के दक्षिण में आबू धाबी और अन्य पड़ोसी अमीरातों में शारजाह और ओमान आता है। दुबई का पश्चिमी तट फारस की खाड़ी की सीमाओं से  जुड़ता है। अक्षांश एवं देशांतरीय विस्तार में दुबई की स्तिथि 25°16′11″N 55°18′34″E / 25.2697°N 55.3095°E है।

Arabian desert यानी अरेबियन रेगिस्तान के भीतर आने के बावजूद दुबई की स्थलाकृति संयुक्त अरब अमीरात के दूसरे दक्षिणी भाग से काफी अलग है, यहां के परिदृश्य की विशिष्टता रेतीले रेगिस्तान के रूप में है। दुबई की खाड़ी शहर के पूर्वोत्तर दक्षिण पश्चिम की तरफ है। 

दुबई की जलवायु

जलवायु में यहां की जलवायु गर्म और शुष्क है, जिस कारण गर्मियों में दुबई बेहद गर्म, शुष्क और तूफानी हो जाता है। इस दौरान औसत उच्च तापमान लगभग 40 डिग्री सेल्सियस और रात के समय निम्न तापमान लगभग 30 डिग्री सेल्सियस होता है।

दुबई में साल भर गर्भ दिनों की उम्मीद की जा सकती है, सर्दियां छोटी और गर्म होती है जिस दौरान औसत तापमान 30 डिग्री सेल्सियस और रात के समय निम्न 14 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। वर्षा ऋतु में 150 मिलीमीटर की वर्षा होती है जो पिछले कुछ दशकों में बढ़ रही है। वर्षा का दुबई के गर्म जलवायु पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता फिर भी इससे रेगिस्तानी झाड़ियों की संख्या में वृद्धि हुई है।

दुबई की शासन व्यवस्था

शासन प्रणाली में दुबई में संवैधानिक राजतंत्र चलता है। हमारे भारत देश की तरह या दुनिया के दूसरे लोकतांत्रिक देशों की तरह यूएई यानी संयुक्त अरब अमीरात में लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था नहीं है। यूएई में लोकतांत्रिक रूप से चुने गए लीडर या संस्थान नहीं होते हैं, और यहां के नागरिकों को दूसरे पॉलीटिकल पार्टीज बनाने या अपने गवर्नमेंट को चेंज करने का कोई हक नहीं होता है।

Politics से जुड़े फैसलो में यहां के फेडरल नेशनल काउंसिल का योगदान रहता है। शासकों में, दुबई पर 1833 से अल मकतौम वंश ने शासन किया है। दुबई के मौजूदा शासक के रूप में मोहम्मद बिन रशीद अल मकतौम है, यह संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और उपराष्ट्रपति भी है।

यहां कि सरकार एक संवैधानिक राजशाही जहां से ढांचे के तहत चलती है। यह al-maktoum परिवार द्वारा शासित है। यहां के तत्कालीन शासक द्वारा दुबई नगर पालिका की स्थापना नगर नियोजन, नागरिक सेवाओं और स्थानीय सुविधाओं के रखरखाव के उद्देश्य से की गई थी।

UAE का मुख्य राजस्व दुबई के बेहतरीन पर्यटन, यहां के वित्तीय सेवाओं और जायदाद से आता है। यदि बात की जाए दुबई की अर्थव्यवस्था की तो यह मूलतः तेल उद्योग पर निर्मित है आज के समय में 80 अरब अमेरिकी डॉलर की अमीराती अर्थव्यवस्था में प्राकृतिक गैस और पेट्रोल आदि का राज्यसभा में योगदान 2006 के अनुसार 6% से कम है। संपत्ति और निर्माण ने या की अर्थव्यवस्था में योगदान दिया है।

दुबई की अर्थव्यवस्था

हालांकि दुबई का औद्योगिक क्षेत्र में मुख्य तेल और प्राकृतिक गैस ही है, वर्तमान में तेल और प्राकृतिक गैस का भाग अमीरात के राजस्व का 6 परसेंट से भी कम है।

अनुमान में दुबई 240000 बैरल तेल का दैनिक तथा यहां के अपतटीय क्षेत्रों से पर्याप्त मात्रा में गैस का उत्पादन करता है। गैस का यहां के राजस्व में 2% की हिस्सेदारी है। तेल के भंडार दुबई में काफी कम हो गए हैं जिससे कि 20 साल के अंदर यहां के तेल भंडार खत्म होने की भी संभावना है। इस क्षेत्र से हटकर व्यापार दुबई की अर्थव्यवस्था में 16 परसेंट का योगदान देता है, संपत्ति और निर्माण, माल आगार और वित्तीय सेवाएं अर्थव्यवस्था में क्रमशः 22.6%,15% और 11% का योगदान देते हैं।

जेबेल अली बंदरगाह जो कि पूरी दुनिया का सबसे बड़ा मानव निर्मित बंदरगाह है इसका निर्माण 1970 के दशक में दुबई में ही शुरू हुआ था। यह बंदरगाह कंटेनर यातायात की मात्रा के इसके क्षमता के लिए दुनिया भर में आठवें स्थान पर था। कई प्रकार के उद्योगों की स्थापना के लिए शहर भर में विशेष मुक्त क्षेत्रों के साथ दुबई आईटी और सेवा उद्योग में भी केंद्र की तरह विकसित हो रहा है।

बड़े पैमाने पर विकास परियोजनाओं का दुबई में निर्माण हो रहा है, विश्व के सबसे बड़ी गगनचुंबी इमारतों जैसे बुर्ज खलीफा अमीरात टावर, और इनके अलावा पाम द्वीपसमूह, सबसे महंगे होटल- बुर्ज अल अरब का निर्माण भी यहां हुआ है।

दुबई में पर्यटन

पर्यटन दुबई सरकार के आमदनी का एक बड़ा हिस्सा है। दुबई का पर्यटन यहां के सरकार के अमीरात में विदेशी पैसे के प्रवाह को बनाए रखने का एक जरूरी हिस्सा है। मुख्यत: खरीदारी और इसके प्राचीन और आधुनिक आकर्षण पर्यटकों को आकर्षित करती है।

दुनिया के सबसे ज्यादा भ्रमण किए गए शहरों में 2007 के अनुसार दुबई आठवें स्थान पर था। आज के समय में मिनियंस की संख्या में पर्यटक घूमने के लिए दुबई जाते हैं। दुबई में बहुत से मनोरंजन पार्क और उद्यान है जिनमें जुमैरह बीच पार्क, क्रीकसाइड पार्क, अल ममजर पार्क, मुश्रीफ पार्क आदि का नाम आता है। बुर्ज खलीफा तो यहां के सबसे मुख्य आकर्षणों में से एक है ही । कई आलीशान होटल और दूसरे बिल्डिंग्स  भी यहां के आकर्षणों में आते है।

दुबई में परिवहन

इस महानगर में परिवहन सड़क और परिवहन प्राधिकरण द्वारा नियंत्रित है यहां की सरकार ने सड़क अवसंरचना में भारी निवेश किया है। वाहनों की संख्या में वृद्धि के साथ यह अवसंरचना विकसित नहीं हो सका है।

हवाई सुविधा में यहां दुबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा अमीरात एयरलाइन का केंद्र है। जहां से दुबई और देश के अन्य अमीरात को सेवा प्रदान की जाती है। यहां का अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा 2008 में दुनिया का विश्व में सबसे व्यस्त हवाई अड्डा था। बहुत बड़ी संख्या में यात्रियों के अलावा यहां का हवाई अड्डा दुनिया के सबसे व्यस्त माल हवाई अड्डे में से एक है। छह महाद्वीपों के 61 देशों के अलग-अलग स्थानों पर अंतरराष्ट्रीय स्तर की सेवा देती अमीरात एयरलाइंस दुबई की राष्ट्रीय विमान सेवा है।

दुबई के अंदर रेल सुविधा में दुबई metro भी स्थित है, चार लाइने सहित दुबई metro एक बड़ा मेट्रो नेटवर्क है। इसके अलावा पाम जुमेरह पर एक monorail भी खोला गया है यह इस क्षेत्र में बनाई गई पहली monorail है।

सार्वजनिक परिवहन सेवा में दुबई में सार्वजनिक बस परिवहन प्रणाली सड़क और परिवहन प्राधिकरण द्वारा चलाई जाती है, यहां की जनसंख्या का बड़ा भाग सार्वजनिक बसों का प्रयोग करती है। फनी सेवाओं में टैक्सी आ गई भी या के सड़कों पर देखने को मिलती है यातायात में इनका भी बड़ा योगदान रहता है इसके अलावा यहां नावें भी चलती है।

दुबई में दो प्रमुख वाणिज्यिक बंदरगाह भी स्थित है, इनमें पोर्ट रशीद और पोर्ट जेबेल अली का नाम आता है। पोर्ट जेबेल अली सबसे व्यस्त बंदरगाहो में सातवें स्थान पर आता है, और यह दुनिया का सबसे बड़ा मानव निर्मित बंदरगाह है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *