Website का मतलब क्या होता है? (Website ka matlab kya hota hai)

आज हम जानेंगे की वेबसाइट क्या है? (Website kya hota hai) या वेबसाइट का मतलब क्या होता है? (Website ka matalab kya hota hai)

आज जहां इंटरनेट की पहुंच पूरी दुनिया भर के अरबों लोगों तक है, इंटरनेट पर कुछ भी सर्च करके उससे संबंधित जानकारी आसानी से प्राप्त की जा सकती है। कुछ क्लिक करके हम इंटरनेट पर कुछ भी खोज सकते हैं, जो भी हम सर्च करते हैं उसका जवाब हमें इंटरनेट पर किसी ना किसी वेबसाइट से ही मिलता है।

आप अभी इस लेख को जो पढ़ रहे हैं, यह भी किसी वेबसाइट पर ही उपलब्ध है। इंटरनेट पर जो जानकारी होती है वह किसी न किसी व्यक्ति द्वारा ही वहां उपलब्ध कराई जाती है और ऐसा वह व्यक्ति एक वेबसाइट पर जानकारी को अपलोड करके करता है, जिस वेबसाइट पर जाने से हम उसे पढ़ सकते हैं।

यानी कि इंटरनेट पर जानकारी हमें वेबसाइट पर ही मिलती है। कई बार लोगों के मन में यह प्रश्न आ सकता है या लोगों को इसकी पूरी तरह जानकारी नहीं होती की वेबसाइट क्या होता है?  इसका मतलब क्या है? इत्यादि। आज इस लेख में हम वेबसाइट के बारे में ही विस्तार से जानेंगे इससे संबंधित दूसरी चीजों के बारे में भी चर्चा करेंगे।

Website का मतलब क्या होता है?

Website का मतलब क्या होता है?

सरल शब्दों में कहा जाए तो, उदाहरण के लिए जब आप गूगल पर कुछ सर्च करते हैं तो उससे संबंधित है अलग-अलग जानकारी जो होती है वह आपके सामने आ जाती है उसके बाद आप उसमें से किसी एक पर क्लिक करके उसे पढ़ते हैं, जिस पर आप क्लिक करते हैं वही एक वेबसाइट है।

Website क्या होता है?

यानी इंटरनेट पर जानकारियों का संग्रह एक वेबसाइट पर ही होता है। गूगल स्वयं भी एक वेबसाइट है। दूसरे शब्दों में समझने का प्रयास किया जाए तो web pages का संग्रह वेबसाइट कहलाता है।

यानी कि जब किसी एक चीज से संबंधित सारी जानकारी को इंटरनेट पर एक साथ संग्रहित कर के जहां रखा जाता है वह वेबसाइट होता है।

दूसरी परिभाषा में, एक वेबसाइट इंटरनेट पर उपलब्ध एक सार्वजनिक, web pages और किसी विषय से संबंधित जानकारी का एक संग्रह होता है।

Website की पहचान

एक वेबसाइट की पहचान उसके डोमेन नेम से की जा सकती है। उदाहरण के लिए आप ने इंटरनेट पर कभी .com , .in , .gov , .org  इत्यादि किसी नाम के अंत में लिखे हुए जरूर देखे होंगे।

कोई व्यक्ति अपना निजी वेबसाइट  बना सकता है, किसी छोटे या बड़े सरकारी या प्राइवेट संस्थान का अपना वेबसाइट होता है, किसी ऑर्गेनाइजेशन, गवर्नमेंट की भी वेबसाइटे होती है। डोमेन नेम को वेब सर्वर पर प्रकाशित किया जाता है। सार्वजनिक रूप से सुलभ वेबसाइटें मिलकर ही वर्ल्ड वाइड वेब ( www ) का गठन करती है।

दैनिक जीवन में,  जब हमें कोई मूवी देखने का मन करता है, या कोई गाने सुनना होता है या कोई अन्य फाइल को डाउनलोड करना हो, या ऐसी कोई भी जानकारी पानी हो तो हम उसे अपने मोबाइल या कंप्यूटर के ब्राउजर (गूगल क्रोम इत्यादि) पर सर्च करते हैं।

जिसके बाद हमारे स्क्रीन पर उससे संबंधित कई सारी वेबसाइट खुल जाती है, जिनमें हम विजिट करके अपने अनुसार जानकारी खोज सकते हैं। आमतौर पर एक वेबसाइट किसी विशेष विषय पर होती है, जैसे कि कोई वेबसाइट समाचार से संबंधित हो, कोई वेबसाइट शिक्षा से, कोई मनोरंजन से, कोई वाणिज्य से, कोई सामाजिक नेटवर्किंग से इत्यादि।

एक वेबसाइट को खोलने पर सबसे पहले हमारे सामने उसका Home page खुलता है जो एक प्रकार से उस वेबसाइट का इंट्रोडक्शन होता है, उसके बाद उसमें जानकारी अलग-अलग web pages पर उपलब्ध रहती है, web pages की संख्या कितनी भी हो सकती है।

वेबसाइट से जुड़ी कुछ अन्य चीजें

Static web page

Website को दो प्रकारों में बांटकर देखा जा सकता है, जिसमे स्टैटिक वेबसाइट ( static website) पहला है। एक static webpage या static website वैसे वेबसाइट को कहते हैं जहां सभी यूजर को एक ही प्रकार का इंटरफ़ेस देखने को मिलता है। यानी सभी यूजर्स के लिए वह एक समान  ही खुलता है।

Static का मतलब ही रुका हुआ होता है यानी कि एक समान। एक Static web page में यूज़र कोई छेड़छाड़ नहीं कर सकता, वह पेज जैसा है उसे वैसा ही दिखेगा। उदाहरण के लिए आप इस वक्त जो यह लेख पढ़ रहे हैं वह एक स्टैटिक वेब पेज है, comment, share के अलावा आप इसमें छेड़छाड़ नहीं कर सकते। इस तरह की अन्य जितनी भी वेबसाइटे होती है वे स्टैटिक वेबसाइट ही होती है।

Dynamic web page

Dynamic का मतलब हो जाता है जो एक समान न हो। ऐसे वेब पेज या website को डायनेमिक वेब पेज कहते हैं जहां सभी यूजर को एक जैसा इंटरफेस देखने को नहीं मिलता है। यहां यूजर्स को उनके अनुसार अलग-अलग इंटरफ़ेस देखने को मिलता है। इस तरह के वेब पेज पर यूजर कुछ अतिरिक्त चीजें कर सकता है।

इसके उदाहरण में फेसबुक, टि्वटर, युटुब और इन जैसी अन्य सोशल मीडिया वेबसाइट आती है। इन वेबसाइटों पर इस्तेमाल करने वाले को उनकी रुचि इत्यादि के अनुसार वेब पेज देखने को मिलता है।इस जैसी वेबसाइट के अन्य उदाहरण में इंस्टाग्राम, लिंकडइन, और दूसरी forum websites आती हैं।

URL/ web address

किसी भी वेबसाइट का या वेब पेज का उसके पीछे लिखा एक वेब ऐड्रेस होता है और उसे ही यूआरएल कहते हैं। यदि आप डायरेक्टली किसी वेबपेज पर जाना चाहते हैं तो आप उसके  वेब ऐड्रेस के द्वारा उस वेबसाइट पर पहुंच सकते हैं।

यदि आप किसी दूसरी जगह से यू आर एरिया में एड्रेस कॉपी करके उसे डायरेक्ट सर्च करते हैं तो आप उस पेज पर पहुंच जाएंगे। अलग-अलग वेबसाइट का अलग वेब एड्रेस होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Website बनाकर पैसे कैसे कमाए?  (महीने 27,000 कमाए) ✅✅✅