B.Ed में कितने विषय होते हैं? | B.Ed subject list in hindi

आज हम जानेंगे कि B.Ed में कितने विषय होते हैं? (B.Ed me kitne subject hote hai) अगर आप b.ed करने की सोच रहे हैं या करना चाहते हैं तो ऐसे में आपको किन किन विषय को पढ़ना होगा (Subject In Bachelor of Education) इसकी जानकारी आपको होने चाहिए।

आज मैं आपको b.ed के सभी विषय के बारे में बताने वाला हूं कि आपको b.ed करने के दौरान किन-किन विषय को बढ़ना होगा।

B.Ed कैसे करें?

b.ed करने के लिए सबसे पहले आपकी ग्रेजुएशन पूरी होनी चाहिए ग्रेजुएशन पूरी होने के बाद ही आप b.ed कर सकते हैं ग्रेजुएशन आप किसी भी विषय में कर सकते हैं।

ग्रेजुएशन पूरी होने के बाद आप उस विषय में b.ed भी कर सकते हैं।

Addmission

भारत के बहुत से कॉलेज ऐसे हैं जहां b.ed मैं एडमिशन लेने के लिए परीक्षा देने की जरूरत पड़ती है वहीं कुछ कॉलेज ऐसे भी है जो कि बिना परीक्षा के जाने की मेरिट के अनुसार ही आपका सिलेक्शन करती है।

तथा मेरिट लिस्ट में नाम आने के बाद आपको काउंसलिंग के लिए बुलाया जाता है और वही डिसाइड होती है कि आपको कौन से कॉलेज मिलने वाले हैं।

B.Ed में कौन-कौन से विषय होते हैं? (Subject In Bachelor of Education)

b.ed में बहुत सारे सब्जेक्ट होते हैं यह आप पर निर्भर करता है कि आपने अपना ग्रेजुएशन किस विषय से की है तथा आपकी दिलचस्पी किस विषय के शिक्षक बनने में है।

यहां आर्ट्स कॉमर्स और विज्ञान के छात्रों के लिए अलग-अलग कोर्स है आप इनमें से किसी भी विषय को चुनकर अपनी बीएड की पढ़ाई को कर सकते हैं।

  • शिक्षा, संस्कृति और मानव मूल्य
  • समग्र शिक्षा
  • शिक्षा का दर्शन
  • शैक्षणिक मनोविज्ञान
  • मार्गदर्शन और परामर्श
  • शैक्षिक मूल्यांकन और आकलन
  • जैविक विज्ञान    प्राकृतिक विज्ञान
  • व्यापार    शारीरिक शिक्षा

B.Ed में कितने विषय होते हैं?

  • विशेष शिक्षा
  • अंग्रेज़ी
  • तमिल
  • हियरिंग इम्पेरेड
  • राजनीति विज्ञान
  • हिन्दी
  • भौतिक विज्ञान
  • कंप्यूटर विज्ञान
  • भौतिक विज्ञान
  • अर्थशास्त्र
  • होम साइंस
  • रसायन विज्ञान
  • भूगोल
  • गणित

ऊपर बताए गए जो भी सब्जेक्ट है आप इन सब्जेक्ट में b.ed कर सकते हैं।

B.Ed में कितने सब्जेक्ट pedagogy होते हैं? (B.Ed methodology subject list in hindi)

B.Ed कोर्स में pedagogy विषय का बहुत ही महत्व है क्योंकि अभी इस विषय से संबंधित बहुत से बदलाव इस कोर्स में किए गए हैं अगर आपका pedagogy विषय आपके ग्रेजुएशन के विषय से मिल नहीं होता है। तो आपका बीएड करना असफल होता है क्योंकि इसके बाद आप उस विषय में शिक्षक नहीं बन पाते हैं जिसमें आप B.Ed करते हैं।

इसलिए  हम B.Ed के pedagogy विषय की लिस्ट देंगे ताकि आपको pedagogy विषय की जानकारी हो और आप अपने B.Ed कोर्स में इसका चुनाव अच्छे से कर पाए।

विज्ञान विषय से स्नातक करने वाले छात्रों को pedagogy में कौन सा विषय लेना होता है ?कॉमर्स से स्नातक करने वाले छात्रों को pedagogy में  कौन सा विषय लेना होता है इन सब के बारे में जानेंगे।

B.Ed methodology subject list in hindi

  • हिंदी
  • अंग्रेजी
  • गणित
  • सोशल साइंस
  • होम साइंस
  • कंप्यूटर साइंस
  • उर्दू
  • बायोलॉजिकल साइंस
  • फिजिकल साइंस
  • संस्कृत

B.Ed pedagogy विषय में आप को पढ़ाने की पद्धति और विधि के बारे में पढ़ाया जाता है, यह एक तरह से आप की ट्रेनिंग होती है। अगर pedagogy विषय आपके स्नातक विषय से मेल नहीं होता है तो आप शिक्षक नहीं बन पाएंगे। इसलिए हमें बहुत ही ध्यान से pedagogy विषय का चुनाव करना होता है। अगर आपने फिजिक्स केमिस्ट्री गणित जैसे विषय से स्नातक की है तो आपको pedagogy विषय के तौर पर फिजिकल साइंस बायोलॉजिकल साइंस मिलेंगे अगर आपने अर्थशास्त्र राजनीतिक शास्त्र भूगोल जैसे विषय से स्नातक किया तो आपको pedagogy विषय के तौर पर सोशल साइंस मिलेंगे। 

B.Ed करने के लिए योग्यता क्या है?

b.ed करने के लिए आपकी ग्रेजुएशन पूरी होनी चाहिए तथा ग्रेजुएशन में कम से कम 50% नंबर होने चाहिए तथा कुछ-कुछ कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए ग्रेजुएशन में न्यूनतम मात्र 55% होनी चाहिए।

b.ed करने के लिए विद्यार्थी की न्यूनतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए 21 वर्ष होने के बाद ही आप बीएड करने के लिए योग्य होंगे।

B.Ed कितने साल की होती है?

बी एड 2 वर्ष की होती है और इन 2 वर्षों में

क्या शिक्षक बनने के लिए b.ed करना जरूरी है?

बिल्कुल अगर आप शिक्षक बनना चाहते हैं तो ऐसी स्थिति में आप को भी ऐड करना बेहद महत्वपूर्ण है बिना बीएड किए आप किसी भी सरकारी कॉलेज या स्कूल में शिक्षक के तौर पर नहीं पढ़ा सकते हैं।

B.Ed करने में कितना खर्चा होता है?

अगर आप b.ed को करना चाहते हैं तो सरकारी तथा प्राइवेट कॉलेज में इसकी फीस अलग-अलग होती है सरकारी कॉलेज में इसके फेस कम है बल्कि प्राइवेट कॉलेज में b.ed की फीस अत्यधिक है।

अगर औसत फीस की बात करूं तो b.ed करने में 50000 से लेकर ₹70000 तक खर्चा होती है।

B.Ed करने के बाद शिक्षक की सैलरी

b.ed करने के बाद आप शिक्षक तो बन जाते हैं लेकिन यहां शिक्षक भी दो प्रकार के होते हैं

  • TGT
  • PGT

TGT शिक्षक की सैलरी शुरुआत में कम होती है शुरुआत में इनको 250000 से लेकर 350000 तक के बीच सैलरी होती है।

PGT की सैलरी शुरुआत में ही आपको 400000 से लेकर 500000 तक के बीच मिल सकती है।

B.Ed करने के क्या फायदे हैं?

b.ed करने के बाद आप शिक्षक बन सकते हैं जोकि शुरुआत में क्लास वन से लेकर क्लास 10th तक के बच्चे को पढ़ा सकते हैं।

शिक्षक बनने के लिए b.ed कोर्स को करना बहुत जरूरी है अगर आप b.ed कोर्स को नहीं करते हैं तो आप शिक्षक नहीं बन पाएंगे।

Conclusion

आज हमने b.ed से संबंधित काफी सवालों के उत्तर जाने और अगर आप b.ed के बारे में और भी अधिक जानकारी चाहते हैं तो आप गूगल या यूट्यूब की मदद ले सकते हैं।

दोस्तों हर किसी को अपने जिंदगी में एक सफल इंसान बनना होता है और वह इसके लिए अपना रास्ता खुद बनाते हैं कुछ लोग इंजीनियर बनते हैं कुछ लोग डॉक्टर बनते हैं तो वहीं कुछ लोग शिक्षक बनते हैं तथा और भी कई नए नए पोस्ट आ रहे हैं जिनमें वे अपना सफल कैरियर बनाना चाहते हैं।

लेकिन इन सारे पोस्ट में शिक्षक का महत्व सबसे ज्यादा है क्योंकि शिक्षक के रूप में आप कई बच्चों को शिक्षित भी करते हैं और उन बच्चों के साथ-साथ आप उनके परिवार को भी शिक्षित करते हैं तो एक शिक्षक के रूप में अपना कैरियर चुनना बहुत ही गर्व की बात होती है।

यहां तक पढ़ने के लिए आप सभी लोगों का तहे दिल से शुक्रिया आपका दिन शुभ तथा मंगलमय हो।

4 thoughts on “B.Ed में कितने विषय होते हैं? | B.Ed subject list in hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Website बनाकर पैसे कैसे कमाए?  (महीने 27,000 कमाए) ✅✅✅